IAS ऑफिसर ने 7 की जगह लिए 8 फेरे, नौकरी के दौरान कभी रिश्वत न लेने की खाई क़सम

UPSC (Union Public Service Commission) की परीक्षा को अपने आप में सबसे कठिन और कड़ा एग्जाम माना जाता है | ऐसा कहा जाता है कीं अगर इंसान ठान ले तो वो दुनिया में कुछ भी कर गुजर सकता है | असंभव (impossible) की भी एक न एक दिन शुरुआत करनी ही पड़ती है | और जब उसे सफलता मिलती है तो वही शख्स आने वाले पीढ़ी के लिए मार्ग दर्शन का कारण बनते हैं | हालांकि परीक्षा पास करने के बाद सरकारी पद मिलते ही कुछ युवा ज़्यादा पैसे कमाने के लालच में रिश्वत लेने की भूल कर बैठते हैं, जिसकी वज़ह से देश में भ्रष्टाचार बढ़ता है।

यह भी पढ़ें  IAS इंटरव्यू सवाल : एक वर्ष में कितने मिनट होते हैं?

बता दे की अगर कोई व्यक्ति समाज में सकारात्मक बदलाव लाने की कोशिश करे और भ्रष्टाचार को बढ़ावा न देने की क़सम खाए, तो सरकारी दफ्तरों के साथ-साथ देश का भविष्य भी चमक उठेगा। ऐसी ही सोच रखते हैं उत्तर प्रदेश के आईएएस अधिकारी प्रशांत नागर (IAS Prashant Nagar) , जिन्होंने अपनी शादी के जरिए समाज और युवाओं को अनोखा संदेश दिया है।

प्रशांत नागर ने एक बेहतरीन इंसान और ज़िम्मेदार नागरिक की मिसाल पेश करते हुए अपनी शादी में जरा-सा दिखावा नहीं किया और सादगी के साथ फेरे लिये। प्रशांत ने दिल्ली की रहने वाले डॉक्टर मनीषा भंडारी से शादी की है और लड़की वालों से शगुन के रूप में सिर्फ़ 101 रुपए लिये।

यह भी पढ़ें  इंटरव्यू सवाल: पासवर्ड को हिंदी में क्या कहते है?

7 की जगह लिए 8 फेरे : प्रशांत और मनीषा की शादी लॉकडाउन में हुई है, इसलिए उनके शादी समारोह में सभी नियमों का पालन किया गया था। बारात में सिर्फ़ 11 लोग ही शामिल हुए थे, जबकि करीबी दोस्तों और रिश्तेदारों को सोशल मीडिया के जरिए शादी की जानकारी दी गई थी।

दहेज के खिलाफ है प्रशांत का परिवार : अपनी सकारात्मक सोच और शादी के चलते सोशल मीडिया पर सुर्खियाँ बटौरने वाले प्रशांत नागर ने इस साल मई महीने में को रोना के कारण अपनी माँ को खो दिया था, जिसकी वज़ह से वह भावनात्मक रूप से काफ़ी कमजोर हो गए थे। प्रशांत के पिता रणजीत नागर दहेज प्रथा के सख्त खिलाफ हैं, इसलिए उन्होंने कन्या पक्ष से किसी तरह भी तरह का दहेज नहीं लिया।

यह भी पढ़ें  स्कूल बनवाने के लिए मुस्लिम परिवार ने 40 लाख की जमीन दे दी दान में हो रही हर ओर चर्चा !