बिहार के 199km लम्बा दरभंगा आसम एक्सप्रेस-वे सात जिले होकर गुजरेगी, जुड़े दो एयरपोर्ट

बिहार में एक नया एक्सप्रेस-वे बन रहा है. उत्तर और दक्षिण बिहार इससे सीधा कनेक्टेड हो जायेंगे. यह एक्सप्रेस-वे दरभंगा से आमस तक बन रहा है. दरभंगा आमस एक्सप्रेस-वे का निर्माण चार फेज में होगा. इस सड़क के निर्माण में कुल 6927 करोड़ रुपये का खर्च होगा. बताया जा रहा है इसको साल 2024 इसका निर्माण पूरा कर लिया जायेगा. निर्माण के लिए टेंडर जारी कर दिया गया है.

इसके चालू हो जाने से बिहार के समस्तीपुर , जहानाबाद, औरंगाबाद, गया, नालंदा, पटना, वैशाली, हाजीपुर के लोगो को काफी सहूलियत होगी. समस्तीपुर में यह ताजपुर होती हुई दरभंगा एयरपोर्ट की ओर निकल जाएगी. फिर वहां से जनकपुर में जाकर खत्म हो जाएगी.

भूमि अधिग्रहण काम भी पूरा कर लिया गया है. काम में तेजी लाने के लिए सभी तरह के लिए NHAI (नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया) द्वारा दिशा निर्देश जारी किये जा रहे है. इसकी कुल लम्बाई 199 किमी है. इतने लम्बे योजना को तैयार करने में लगभग 3 साल का वक़्त लगने वाला है. इसको गोपालगंज-किशनगंज एनएच से भी जोड़ा जायेगा. साथ ही मोहनिया-डोभी एनएच से भी इसकी कनेक्टिविटी बनाई जाएगी.

झारखण्ड राज्य से नेपाल जाने वाले भी इस हाईवे का इस्तेमाल कर सकते है. इसको चार चरण में बनाया जायेगा. पहले चरण में 55 किमी का काम होगा. इस चरण में आमस से शिवरामपुर के बीच बनेग. इसमें 1390 करोड़ लगने वाले है. दुसरे फेज के निर्माण में 1494.31 रूपये की लागत आएगी. औरंगाबाद से शुरू हो कर लगभग दो एयरपोर्ट होते हुए यह एक्सप्रेस वे जयनगर तक जाएगी.

यह हाईवे मदन पुर से शुरू होगी. आगे चलकर यह गया एयरपोर्ट होते हुए जीटी रोड से जुड़ जाएगी. फिर यहाँ से जहानाबाद और नालंदा को कनेक्ट करते हुए. कच्ची दरगाह के पास पटना पहुच जाएगी. पटना होते हुए बिदुपुर जाएगी फिर वहां से दरभंगा एयरपोर्ट होते हए जयनगर में जा कर समाप्त हो जाएगी.