apanabihar.com4

बिहार के लोगो को अब ढाबा खोलना बहुत ही आसान हो गया है. बता दे की बिहार सरकार ने जो फैसला लिया है उसके मुताबिक बिहार में ढाबा खोलने पर 50 लाख रुपए तक का अनुदान मिलेगा. दरअसल बिहार सरकार के पर्यटन विभाग ने उत्तर प्रदेश, झारखंड और पश्चिम बंगाल के रास्ते बिहार में प्रवेश करते ही सड़क किनारे लग्जरी ढाबा, रेस्तरां की सुविधा देने की एक व्यापक योजना बनाई है. इसके तहत पर्यटन विभाग अगले 3 सालों में पर्यटन केंद्रों को जोड़ने वाली सभी सड़कों पर 150 से अधिक लग्जरी ढाबा-रेस्तरां और सुविधा केंद्र खोलेगा.

Also read: मुंबई से बिहार आने वालों के लिए अच्छी खबर, चलेगी 92 समर स्पेशल ट्रेन

आपको बता दे की विभाग द्वारा पर्यटन केंद्रों तक जाने वाले 23 मार्गों को चिन्हित कर लिया गया है. इसमें उत्तर प्रदेश के वाराणसी, गोरखपुर और कुशीनगर को जोड़ने वाली सड़कों पर विशेष ध्यान दिया गया है. पर्यटन विभाग ने फैसला लिया है कि इन 23 रूटों पर 40 प्रीमियम और स्टैंडर्ड सुविधा से लैस ढाबा-रेस्तरां खोले जाएंगे, जबकि 60 बुनियादी सुविधा वाले ढाबा-रेस्टोरेंट भी खोलने की योजना है. पहले से चल रहे 60 ढाबा रेस्तरां को बेहतर सुविधाओं से सुसज्जित किया जाएगा. इसके लिए पर्यटन विभाग द्वारा निजी निवेशकों और संचालकों को 10 लाख से लेकर 50 लाख तक का अनुदान भी दिया जाएगा.

Also read: अब सीमांचल से दरभंगा एयरपोर्ट पहुचने में लगेगा कम समय, फोरलेन बनेगा दरभंगा-जयनगर नेशनल हाइवे

जानकारी के लिए बता दे की पर्यटकों की सुविधा के लिए पूर्व-पश्चिम गलियारा के रूप में चिन्हित किए गए गोपालगंज-मुजफ्फरपुर -दरभंगा-सुपौल-पूर्णिया-किशनगंज रुट पर सबसे अधिक 18 लग्जरी ढाबा स्थलों जैसे सुविधा केंद्र खोले जाएंगे. यह रुट सर्वाधिक लंबा है जो यूपी की सीमा से शुरू होता है और बंगाल तक जाता है. इसमें तीन प्रीमियम और स्टैंडर्ड और 4 बेसिक सुविधा वाले ढाबा-रेस्तरां खोले जाएंगे, वहीं पहले से संचालित 9 ढाबा रेस्तरां को सुविधा युक्त बनाया जाएगा.

Also read: बिहार में बनने जा रही है चमचमाती एलिवेटेड सड़क, खर्च होंगे 15000 करोड़

Also read: Train News: झारखंड से बिहार आने जाने में अब नही होगी परेशानी, चलेगी स्पेशल ट्रेन

Raushan Kumar is known for his fearless and bold journalism. Along with this, Raushan Kumar is also the Editor in Chief of apanabihar.com. Who has been contributing in the field of journalism for almost 4 years.