बिहार के इन जिला में सबसे ज्यादा इलेक्ट्रिक वाहनों की बढ़ी मांग, दो सालों में 4 गुना हुई बढोतरी

भारत में बैटरी से चलने वाली Scotty का चलन आ गया है | बढ़ते पेट्रोल और डीजल के दाम को देखते हुए लोग अब बैटरी वाली स्कूटर या बैटरी वाले बाइक को लेना पसंद कर रहे हैं | बढ़ते डिमांड को देखते हुए तरह-तरह की कंपनियां तरह-तरह की नई इलेक्ट्रिक बाइक और नई इलेक्ट्रिक स्कूटर दिन- प्रतिदिन लांच कर रही है पटना हो या देश का कोई भी कोना वहां पर आप ई रिक्शा से सफर जरुर करते होंगे इसी बीच अब ई रिक्शा के अलावा कार, मोटरसाइकिल और कई अन्य वाहन भी इलेक्ट्रिक वाहन आ चुके हैं जिसका प्रयोग अब तेजी से किया जा रहा है लोगों को यह इलेक्ट्रिक वाहन बेहद ही भा रहा है।

यह भी पढ़ें  बिहार में 10 नये स्टेट हाईवे के निर्माण को मिली मंजूरी, जानें किन 13 जिलों में बनेगी सड़क

बताया जा रहा है की बिहार के कुछ ऐसे भी जिले हैं जहां पर इलेक्ट्रिक वाहनों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। लोग परंपरागत पेट्रोल डीजल की वाहनों को छोड़ इलेक्ट्रिक बाहर की तरफ रुख कर रहे हैं। आपको बता दूं कि अकेले राजधानी पटना जिला में सरकार द्वारा इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए दी जाने वाली सब्सिडी और छूट ने वाहन से बिक्री में बढ़ोतरी देखी गई है जिस वजह से बिक्री में पिछले 2 सालों में लगातार 4 गुना तक की बढ़ोतरी हुई है।

खास बात यह है की अगर आंकड़ों पर नजर डालेंगे तो वह बिहार में इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री में तेजी से बढ़ोतरी देखी गई है। बता दें की पटना जिला में हर महीने 400 से 500 इलेक्ट्रिक बाइक बिक्री होते हैं। दूसरी तरफ देखा जाए तो आम पेट्रोल की गाड़ियां के मुकाबले की स्कूटी और बाइक चलाने में 5 गुना ईंधन की बचत होती है इससे ना पर्यावरण की बचत होती है बल्कि इससे लोगों को कम आर्थिक बोझ भी बढ़ता है।

यह भी पढ़ें  बिहार को-2022 के अखिर में मिलेगा दो नया मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल ,क्षमता 500-500 बेड की होगी