बिहार के बागीचों में होगी मसाले की खेती, योजना के लिए इन जिलों का हुआ चयन

बिहार वासियों के लिए यह बहुत ही खुसी की खबर है की अब बागीचों में मसाला के साथ कुछ ऐसी फसलों की खेती होगी, जिन्हें धूप की बहुत जरूरत नहीं होती है। मसाला की खेती इसी साल प्रयोग के तौर पर शुरू होगी। इसके लिए ओल, अदरक व हल्दी का चयन किया गया है। अभी बिहार के 12 जिलों के बागीचों में इनकी खेती शुरू होगी। बिहार सरकार किसानों की आमदनी बढ़ाने को नित नये प्रयोग कर रही है। बागीचों में पेड़ लगाने के बाद खाली बची जमीन का उपयोग मसालों की खेती के लिए होगा। इससे किसान बागीचे के फल तो बेचेंगे ही, मसालों का व्यापार भी कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें  Bihar School Opening: इस दिन से खुल रहे बिहार के सरकारी स्‍कूल, पटना में सवा चार घंटे ही होगी पढ़ाई

आपके जानकारी के लिए बता दे की योजना के तहत बागीचे में मसाला की खेती करने वाले किसानों को तकनीकी सहायता तो सरकार देगी ही बीज और खाद की कीमत का आधा पैसा भी सरकार देगी। इंटीग्रेटेड फार्मिंग योजना के तहत किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए कृषि विभाग ने इस पर काम शुरू किया है। बागीचे में उपलब्ध खाली जमीन के वास्तविक रकबे के आधार पर जरूरत का आकलन किया गया है।

बताया जा रहा है की बिहार में किसान औसतन दो फसल की खेती ही सालभर में करते हैं। मौसम अनुकूल खेती में सरकार ने उसे तीन फसल तक बढ़ाने की योजना पर काम शुरू कर दिया है। इसी के साथ सलाना फसलों की खेती में भी समेकित कृषि योजना पर जोर दिया जा रहा है। नई योजना इसी प्रयास की एक कड़ी है। केला जैसे फल के बागीचों को छोड़ दें तो आम और लीची के बागीचों में 40 प्रतिशत भूमि का उपयोग ही पेड़ लगाने में होता है। शेष 60 प्रतिशत जमीन पर ऐसी फसलों की खेती की जा सकती है, जिनमें धूप कम रहने पर भी उत्पादन पर असर नहीं पड़ता है।

यह भी पढ़ें  बिहार में जाम का अब नो-टेंशन, सिक्स लेन पुल का हुआ शुभारंभ, इन जिलों से पटना पहुंचना अब बेहद आसान