बिहार में पिता की मृत्यु पर बेटे ने श्राद्ध भोज करने के बजाय बनवाया पुल, कहा- पिता की यही थी इच्छा

बिहार के एक बेटे ने अपने फर्ज से सभी का दिल जित लिया. बता दे की बिहार के गांव में सुलभ संपर्क का सपना संजोये एक पिता की मृत्यु पर बेटे ने श्राद्ध भोज करने के बजाय पिता के सपने को पूरा किया और गांव में पुल का निर्माण कर एक नयी प्रथा की शुरुआत कर दी. यह मामला है बिहार के मधुबनी जिले का. मधुबनी जिले के कलुआही प्रखंड के नरार पंचायत के वार्ड नंबर 2 में गांव में सड़क संपर्क एक पुल के कारण टूटा हुआ था. पुल नहीं होने से बरसात के मौसम में ग्रामीणों का गांव से बाहर निकलना मुश्किल हो जाता था.

महादेव झा ने जीते जी पुल बनाने का देखा था सपना

आपको बता दे की ग्रामीणों की परेशानी देख महादेव झा नामक बुजुर्ग ने निजी प्रयासों से इस समस्या का समाधान करने का सपना संजोया था. इसी क्रम में बुजुर्ग महादेव झा इस सपने को लेकर ही दुनियां से चल बसे. उनके पुत्र ने उनके इस सपने को पूरा कर दिया है. महादेव झा के पुत्र सुधीर झा ने अपने पिता के निधन पर श्राद्ध भोज करने के बजाय 5 लाख रुपये की लागत से गांव में पुल का निर्माण करवा दिया है. सुधीरे ने न केवल गांववालों को सुगम आवाजाही सुनिश्चित कर दी है, बल्कि एक नयी परंपरा का भी आगाज किया है.

पांच लाख से बना पुल

खबरों की माने तो महादेव झा ने ही सुधीर को ऐसा करने के लिए कहा था. उन्होंने समाज को एक नयी राह दिखाते हुए अपनी पत्नी और बेटे सुधीर झा से कहा कि अगर पुल निर्माण से पहले उनका निधन हो जाये तो श्राद्ध भोज और कर्मकांड पर लाखों रुपये खर्च करने की बजाय गांव की सड़क पर पुल का निर्माण करवा देना. बहरहाल सुधीर झा ने अपने दिवंगत पिता के सपने को साकार करते हुए गांव की सड़क पर 5 लाख की लागत से पुल का निर्माण करवाया है.