दो साल बाद पहुंचेंगे कांवरिया, मिथिलांचल के कांवरियों के आने-जाने के लिए दो-दो एक्सप्रेस ट्रेन की सुविधा

कांवरिया यात्रियों के लिए रेलवे ने बहुत ही खुशी की खबर दी है. खास बात यह है की इस बार श्रावणी मेला में दो साल के बाद देश के अलग-अलग हिस्सों से कांवरिया सुल्तानगंज पहुंचेंगे। पिछले दो साल में श्रावणी मेला के लिहाज से रेलवे ने भागलपुर रेलखंड पर कई सुविधाएं तैयार की है। सबसे अहम है कि अब सुल्तानगंज में जल भरने के बाद देवघर जाने के लिए सीधी ट्रेन मिलेगी। सुल्तानगंज से देवघर के लिए एक डीएमयू पैसेंजर ट्रेन की सेवा दो महीने पहले ही शुरू की गई है। इसके अलावा भी कई ऐसी सुविधाएं हैं जो दो साल पहले सुल्तानगंज या भागलपुर में कांवरियों को नहीं मिलती थी।

यह भी पढ़ें  पटना जू से भी बड़ा होगा बिहार का दूसरा चिड़ियाघर जानिया कहां होगा निर्माण

आपको बता दे की इस बार मिथिलांचल के कांवरियों के आने-जाने के लिए दो-दो एक्सप्रेस ट्रेन की सुविधा मिलेगी। एक जयनगर-हावड़ा एक्सप्रेस और एक भागलपुर-जयनगर एक्सप्रेस। इन दोनों ट्रेनों की सेवा पहले नहीं थी। इन दोनों ट्रेनों के चलने से मिथिलांचल के समस्तीपुर, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, मधुबनी आदि जिलों के कांवरिया सीधे सुल्तानगंज पहुंच जाएंगे। उन्हें ट्रेन बदलने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इसके अलावा नेपाल से आने वाले कांवरियों को भी सुविधा होगी।

खबरों की माने तो नेपाल से जयनगर आने के बाद सुल्तानगंज के लिए सीधी ट्रेन मिलेगी। वापसी में भी भागलपुर से इन दोनों ट्रेनों से जाने में सहूलियत हो जाएगी। देवघर के लिए कोरोना काल के पहले अगरतला से भी एक एक्सप्रेस ट्रेन चलायी गई है। इससे पूर्वोत्तर राज्यों के कांवरियों को आने-जाने में सुविधा मिलेगी। देवघर में बाबा वैद्यनाथ को जल चढ़ाने के बाद इन इलाकों के कांवरिया सीधे वहीं से ट्रेन पकड़ सकते हैं। हालांकि इस ट्रेन की सेवा सप्ताह में एक दिन ही है लेकिन सोमवारी के दिन यह ट्रेन मिलेगी।

यह भी पढ़ें  बिहार के सभी जिलों में साल के अंत तक चलेंगी इलेक्ट्रिक और सीएनजी बसें, प्रदूषण कम करने में होगी सहायता