देश में मछली उत्पादन में चौथे नंबर पर पहुंचा बिहार, दूध और अंडा का प्रोडक्शन भी बढ़ा

बिहार वासियों का मेहनत साफ दिखाई दे रहा है. बता दे की कृषि रोडमैप के सफल क्रियान्वयन का फलाफल अब बिहार में तेजी से दिखने लगा है। इससे न सिर्फ रोजगार सृजित हो रहे हैं, बल्कि खाद्य चीजों के उत्पादन भी तेजी से बढ़ रहा है। मछली उत्पादन में बिहार जल्द आत्मनिर्भर होगा, क्योंकि मछली उत्पादन में देशभर में बिहार चौथे स्थान पर पहुंच गया है। वर्ष 2007-08 में प्रदेश में दो लाख 88 हजार टन सालाना मछली उत्पादन होता था, वह वर्ष 2020-21 में बढ़कर सात लाख 62 हजार टन हो गया है।

बताया जा रहा है की इसी तरह बिहार में दूध उत्पादन भी दोगुना हो गया है। 2007-08 में में 57 लाख सात हजार टन दूध उत्पादन था, जो वर्ष 2020-21 में 115 लाख दो हजार टन हो गया। ऊर्जा और योजना विकास मंत्री एवं योजना पर्षद के उपाध्यक्ष बिजेंद्र प्रसाद यादव ने शुक्रवार को पत्रकारों को इसकी जानकारी दी।

दूध, अंडा एवं मछली के उत्पादन में बढ़ोतरी दर्ज 

आपको बता दे की इससे पहले योजना पर्षद के सभागार में मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव ने पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग की विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन एवं प्रगति की समीक्षा की। बैठक की जानकारी देते हुए योजना एवं विकास विभाग के सचिव विनय कुमार ने बताया कि कृषि रोडमैप के तहत विभिन्न विभागों में योजना के सतत एवं सफल क्रियान्वयन से जहां रोजगार सृजन में तेजी से वृद्धि हो रही है, वहीं खाद्य चीजों के उत्पादन में भी बिहार देश में तेजी से आगे बढ़ रहा है।