बिहार में गोल्ड माइंस मिलने के बाद अब पेट्रोलियम भंडार मिलने की है संभावना, ओएनजीसी ने शुरू की जांच प्रक्रिया

बिहार वासियों के लिए यह बहुत ही खुसी की खबर है. बता दे की बिहार के जमुई की धरती में देश के सबसे बड़े सोने के भंडार की खुदाई के लिए सरकार द्वारा अनुमति दिए जाने के बाद अब तेल भंडार को लेकर खोज की प्रक्रिया शुरू की जा रही है. बिहार सरकार ने समस्तीपुर और बक्सर जिलों में गंगा किनारे तेल भंडार की उपस्थिति का आकलन करने को खोज (अन्वेषण) के लिए पेट्रोलियम अन्वेषण लाइसेंस (पीईएल) की प्रक्रिया शुरू कर दी है.

पीईएल के लिए आवेदन

आपको बता दे की इस विषय में बिहार के अपर मुख्य सचिव सह खान आयुक्त हरजोत कौर बम्हरा ने बताया कि ONGC लिमिटेड ने तेल की खोज एवं उत्पादन के लिए जीवी-ओएनएचपी-2021/1 (समस्तीपुर) और जीवी-ओएनएचपी-2021/2 (बक्सर) के लिए ओपन एरिया लाइसेंसिंग पॉलिसी (ओएएलपी) के तहत पीईएल प्रदान किए जाने के लिए आवेदन किया है.

प्रक्रिया बहुत ही जल्द शुरू की जाएगी

खास बात यह है की हरजोत कौर ने कहा कि समस्तीपुर (308.32 वर्ग किमी) के क्षेत्र मेंत्र और गंगा बेसिन में बक्सर (52.13 वर्ग किमी) में तेल भंडार की स्थिति आकलन करने के लिए खोज की प्रक्रिया बहुत ही जल्द शुरू की जाएगी. इस संबंध में बिहार सरकार के खान एवं भूतत्व विभाग ने दोनों जिलों के प्रशासनिक प्रमुखों को पहले ही अवगत करा दिया है. इसके लिए जल्द ही अन्वेषण की प्रक्रिया शुरू होगी.