नितिन गडकरी बिहार में केंद्र के सहयोग से बन रही सड़कों की करेंगे समीक्षा, 8 साल बाद भी कई का निर्माण अधूरा

बिहार में केंद्र के सहयोग से निर्माणाधीन सड़क और पुल परियोजनाओं की समीक्षा 31 मई को नयी दिल्ली में सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी करेंगे. इसमें बिहार के पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन, विभाग के आला अधिकारी व इंजीनियर सहित एनएचएआइ के भी आला अधिकारी व इंजीनियर शामिल होंगे.

आठ साल बाद भी सड़क निर्माण अधूरा

खास बात यह है की बिहार की महत्वाकांक्षी एनएच परियोजनाओं में शामिल सिक्सलेन वाराणसी-औरंगाबाद एनएच-2, फोरलेन पटना-गया-डोभी एनएच-83 और दो लेन मंझौलिया-चोरौत एनएच-527 सी सड़क निर्माण आठ साल बाद भी अधूरा है.

हाइकोर्ट के हस्तक्षेप के बाद कार्य में तेजी

आपको बता दे की पटना-गया-डोभी सड़क सहित अन्य सड़कों के निर्माण में हाइकोर्ट के हस्तक्षेप के बाद निर्माण कार्य में तेजी आयी है. अब पटना-गया-डोभी फोरलेन सड़क का निर्माण इसी साल के अंत तक पूरा होने की संभावना है.

यह भी पढ़ें  अच्छी खबर : राजधानी पटना में बनेंगे तीन शानदार शॉपिंग मॉल, जाने कहां होगा निर्माण

एनएच-2 को 2014 में पूरा करने का लक्ष्य था

जानकारों की माने तो सिक्सलेन वाराणसी-औरंगाबाद एनएच-2 की कुल लंबाई करीब 192.4 किमी है. इसमें से बिहार में करीब 135.4 किमी और उत्तर प्रदेश में करीब 57 किमी लंबाई है. इसका निर्माण 2011 में शुरू और 2014 में पूरा होने का लक्ष्य रखा गया था.