गोवा का मजा अब बिहार में ! वाटर एडवेंचर स्पोर्ट्स में पैरासेलिंग का जानें कहां हुआ सफल ट्रायल

बिहार के लोग अक्सर वाटर एडवेंचर का लुफ्त उठाने के लिए गोवा या फिर और कही दुसरे जगह जाते है. लेकिन अब पश्चिम चंपारण के अमवा मन वाटर एडवेंचर स्पोर्ट्स में पैरासेलिंग (parasailing) का सफल ट्रायल के बाद बिहार के पर्यटन क्षेत्र में एक और आयाम जुड़ गया. यह बिहार का पहला वाटर स्पोर्ट्स बन गया जहां पर्यटक पैरासेलिंग का लुत्फ उठा सकेंगे.

आपको बता दे की बिहार सरकार पश्चिम चंपारण को पर्यटन स्थल से कनेक्ट करने के लिए पहला वाटर एडवेंचर स्पोर्ट्स जिले के मझौलिया प्रखंड क्षेत्र और एनएच 727 पर बनाया है. पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद का दावा है कि काम जिस तेजी से चल रहा है उससे लग रहा है कि एक माह के अंदर यह काम करना शुरु कर देगा. बिहार दिवस के अवसर पर इसका ट्रायल हुआ था. मोटर बोट, क्याक, टॉय राईड, जेट्स की स्कूटर और वाटर स्पोर्ट्स एक्टिविटी का सफल ट्रायल किया गया था. इसके साथ ही पैरासेलिंग का भी ट्रायल हो चुका है. इसके शुरू होने के साथ ही पर्यटक इसका आनंद भी ले पाएंगे.

खास बात यह है की वाटर एडवेंचर स्पोर्ट्स स्थल जिले के मझौलिया प्रखंड क्षेत्र और एनएच 727 पर स्थित है. जो पश्चिमी चंपारण की सीमा पर है और इसे अब पश्चिमी चंपारण का प्रवेश द्वार भी कहा जाने लगा है. दरअसल जैसे ही लोग जिले की सीमा में प्रवेश करेंगे वैसे ही अमवा मन पर्यटकों का स्वागत करेगा. अमवा मन में एक झील भी है और यह झील पहले सिर्फ ग्रामीण क्षेत्र के लोग मछली मारने का काम करते थे, लेकिन अब बिहार के पश्चिम चंपारण में भी गोवा जैसे आनंद के लिए देश-विदेश से पर्यटक पहुंचेंगे.