बिहार में बाढ़ की समस्या से निपटने की तैयारी तेज, विधायक और विधान पार्षदों से लिया गया फीडबैक

बिहार में बाढ़ के आने से पिछले कुछ सालो से बहुत ही अधिक मात्रा में लोग प्रभाबित हुए है. बता दे की बिहार में मौसम के व्यवहार में हो रहे बदलाव को देखते हुए जल संसाधन विभाग एक जून से ही बाढ़ संघर्षात्मक कार्यों की शुरुआत करेगा. पिछले वर्षों में यह कार्य 15 जून से शुरू होता था. जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने सोमवार को विधायकों और विधान पार्षदों की फीडबैक प्राप्त करने के लिए आयोजित बैठक में इसकी जानकारी दी.

फीडबैक प्राप्त करने का निर्देश : आपको बता दे की बिहार में बाढ़ एवं सुखाड़ से निबटने के लिए संबंधित विभागों द्वारा किये गये कार्यों एवं आगामी तैयारियों की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में 18 मई को हुई उच्चस्तरीय बैठक में समीक्षा की गयी थी. मुख्यमंत्री ने प्रदेश के सभी विधायक एवं विधान पार्षद को उनके क्षेत्र में हुए कार्यों तथा तैयारियों के बारे में जानकारी देकर उस पर उनका फीडबैक प्राप्त करने के निर्देश दिये था.

यह भी पढ़ें  भारतीय रेलवे ने बदला विक्रमशिला एक्सप्रेस का रूट अगर आप भी कर रहे है इस ट्रेन से सफर तो जान ले !

जल संसाधन विभाग की विशेष बैठक : जानकारों की माने तो मुख्यमंत्री के निर्देश के आलोक में जल संसाधन विभाग द्वारा 23 और 25 मई को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये प्रमंडलवार विशेष बैठक का आयोजन किया जा रहा है. बैठकों में प्राप्त फीडबैक के मुख्य बातों की जानकारी मुख्यमंत्री को दी जायेगी. उन्होंने बताया कि सोमवार को सुबह के सत्र में तिरहुत प्रमंडल, जबकि दोपहर बाद के सत्र में पटना, मगध और मुंगेर प्रमंडल के मंत्री, विधायक और विधान पार्षद इस बैठक से जुड़े थे. बताया जा रहा है की इसमें जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा के अलावा पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन, लघु जल संसाधन मंत्री संतोष कुमार सुमन और ग्रामीण कार्य मंत्री जयंत राज कुशवाहा ने अपने-अपने विभागों के कार्यों और तैयारियों की जानकारी दी.

यह भी पढ़ें  बिहार में ठनका और आंधी-पानी के आसार, विभाग ने तूफान को लेकर जारी किया अलर्ट, जानें मौसम अपडेट