बिहार में आंगनबाड़ी केंद्रों पर अब बच्चों को मिलेगा ज्यादा पौष्टिक आहार, नास्ता में मौसमी फल भी शामिल

बिहार में आंगनबाड़ी केंद्रों पर बच्चों को दिए जाने वाले पौष्टिक आहार में बदलाव किया गया है. खास बात यह है की अब बच्चों को पहले से ज्यादा पौष्टिक आहार मिलेगा. आंगनबाड़ी केंद्रों पर 3 से 6 वर्ष के बच्चों को स्कूल अवधि के दौरान नास्ता और दो बार भोजन दिया जाएगा. सप्ताह में प्रतिदिन नास्ता व खाना में अलग अलग मेनू के अनुसार भोजन होगा. इस संबंध में आईसीडीएस निदेशालय ने गाइडलाइन जारी किया है. समाज कल्याण विभाग द्वारा आंगनबाड़ी केन्द्रों में नामंकित बच्चों को पोषाहार के रूप में कैलोरी एवं प्रोटीन भोजन उपलब्ध कराने के उद्देश्य से यह बदलाव किया गया है. इसके पूर्व भी बदलाव किया गया था.

यह भी पढ़ें  Bihar Weather : बिहार में अगले चार दिनों तक आंधी-पानी व ठनका के आसार, पांच डिग्री तक कम हुआ तापमान

नास्ता में मिलेगा मौसमी फल : बताया जा रहा है की बदलते समय के अनुसार पूरक आहार को गतिविधियों में बदलाव किया गया है. आंगनबाड़ी केंद्रों पर बच्चों को समय के अनुसार उन्हें आवश्यक पोषाहार उपलब्ध कराया जाता है. अब बच्चों को सप्ताह में सभी दिन नाश्ता व भोजन में प्रोटीन व कैलोरी युक्त भोजन उपलब्ध कराया जाएगा. विभाग द्वारा जारी किए गए निर्देश के अनुसार बच्चों को नास्ते में केला, पपीता जैसे मौसमी फल, दूध, अंकुरित चना व गुड़, भुना चना और मूंगफली आदि दिए जाएंगे. सप्ताह के अलग अलग दिवस पर अलग अलग सामग्री बच्चों को नास्ते के रूप में दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें  'जब धूप रहे खूब तेज तो बाहर न जाना..., बिहार में लू-गर्मी पर बने टीचर के गाने ने लूटी महफिल, देखें VIDEO

पोषणयुक्त पुलाव व खिचड़ी मिलेगा : आपको बता दे की आंगनबाड़ी केंद्रों पर नए पूरक पोषाहार के रूप में बच्चों को पुलाव, रसियाव, खिचड़ी, आलू-चना सब्जी के साथ चावल, सोयाबीन सब्जी व चावल, कद्दू दाल या साग दाल के साथ चावल परोसा जाएगा. यह सभी पोषाहार बच्चों के पोषण के लिए आवश्यक है. इससे बच्चों के शरीर में प्रोटीन और कैलोरी बढ़ेगा.