मुजफ्फरपुर स्मार्ट सिटी की हवा साफ करने के लिए मिले चार करोड़ रुपये, मशीन से होगी एनएच की साफ-सफाई

मुजफ्फरपुर : स्मार्ट सिटी मिशन स्थानीय विकास को बढ़ाने और प्रौद्योगिकी की मदद से नागरिकों के लिए बेहतर परिणामों के माध्यम से जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने तथा आर्थिक विकास को गति देने हेतु भारत सरकार द्वारा एक अभिनव और नई पहल है. निगम प्रशासन के अनुसार इस राशि का खर्च प्रदूषण नियंत्रण पर करना है. ऐसे में एनएच की सफाई के लिए एक करोड़ रुपये से बड़े रोड स्वीपिंग मशीन की खरीदारी की तैयारी शुरू हो गयी है. नगर आयुक्त विवेक रंजन मैत्रेय ने बताया कि शहर से सटे एनएच पर 24 घंटे वाहनों का दबाव बना रहता है.

यह भी पढ़ें  अच्छी खबर : इस साल बिहार में पूरा होगा तीन नेशनल हाईवे का काम इन जिलों को होगा फायदा !

प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए राशि उपलब्ध करायी गयी : आपको बता दे की धूल कण के साथ प्रदूषण का लेवल नहीं कम होता है. बताया कि क्षेत्र विस्तार की प्रक्रिया भी चल रही है. इसे ध्यान में रखते हुए उपकरणों के खरीदारी की तैयारी चल रही है. एनएच के रोड स्वीपिंग मशीन के लिए दो कंपनी का प्रस्ताव भी देखा गया है. इसके साथ ही नगर निगम के लिए एक और सुपर सकर मशीन की खरीदारी होगी. इसके बाद निगम के पास सुपर सकर की संख्या तीन हो जायेगी. प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से निगम प्रशासन को दूसरी बार राशि आवंटित की गयी है.

यह भी पढ़ें  बख्तियारपुर से ताजपुर के बीच पुल निर्माण को लेकर 936 करोड़ की मिली मंजूरी, जानिए किन ज़िलों को मिएगा लाभ

स्मॉग टावर के लिए भी चल रही कवायद : बताया जा रहा है की शहरी क्षेत्र में प्रदूषण की वजह से सांस लेना मुश्किल है. स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत चौतरफा चल रहे निर्माण की वजह से दिनों-दिन स्थित बदतर होती जा रही है. इससे निबटने के लिए नगर निगम प्रशासन की ओर से एयर प्यूरिफायर मशीन यानी स्मॉग टावर लगाने की कवायद शुरू हो गयी है.