बिहार के इस जिले के लोग सरकार को बेच रहे सोलर सिस्टम से तैयार बिजली, हर माह हो रही लाख रुपये की कमाई

बिहार के लोगों के लिए यह बहुत ही अच्छी खबर है. खास बात यह है की बिहार के कई शहर सौर ऊर्जा की बिजली से जगमगा उठेगी जिससे बिहार में प्रदूषण में कमी भी आएगी। बता दे की जरूरत की बिजली उपभोग करने के साथ-साथ अतिरिक्त बिजली बेच कर नालंदा के कई लोग प्रतिमाह हजारों रुपये कमा रहे हैं. इस भीषण गर्मी में जहां बिजली सप्लाइ बाधित होने लगी है, ऐसे में नालंदा के सरकारी व निजी भवनों की छतों पर लगे सौर ऊर्जा प्लांट से तैयार बिजली बहुत बड़ी राहत दे रही है. जिले में 250 सरकारी भवनों और 132 निजी मकानों की छतों पर लगाये गये सौर ऊर्जा प्लांट से हर दिन 2176 यूनिट बिजली तैयार हो रही है.

यह भी पढ़ें  उच्च शिक्षा के लिए बिहार सरकार देती है 4 लाख तक का लोन, जानिए क्या है कैसे उठा सकते हैं लाभ

जानकारों की माने तो बिहार के इस जिले के 120 लोग ऐसे हैं, जो सौर ऊर्जा से उत्पादित बिजली का उपभोग करने के बाद बची करीब दो लाख रुपये की अतिरिक्त बिजली हर महीने बिजली कंपनी को बेच रहे हैं. ये सौर ऊर्जा प्लांट जल-जीवन-हरियाली, अक्षय ऊर्जा व स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत लगाये गये हैं. इन सौर ऊर्जा प्लांटों पर 22.59 करोड़ रुपये खर्च किये गये हैं. इन प्लांटों से 20 से 25 वर्ष तक बिजली उत्पादन होगा. इसके देखरेख की जिम्मेदारी पांच वर्ष तक ब्रेडा को दी गयी है.

48 नये उपभोक्ताओं ने कराया नेट लोडिंग कनेक्शन : आपको बता दे की बिहार में सौर ऊर्जा से बिजली उत्पादन कर उसे बेचने की इस आसान प्रक्रिया के प्रति लोगों में तेजी से दिलचस्पी बढ़ रही है. इसी का नतीजा है कि सौर ऊर्जा प्लांट लगाकर अतिरिक्त बिजली विद्युत कंपनी को बेचने के लिए जिले के 48 नये उपभोक्ताओं ने नेट लोडिंग कनेक्शन करवाया है, जबकि 72 सरकारी भवनों पर लगे सौर ऊर्जा प्लांटों से उत्पादित बिजली उपभोग से अधिक होने पर विद्युत कंपनी को देने के लिए नेट लोडिंग कनेक्शन कराया जा रहा है.

यह भी पढ़ें  बिहार के पहली हेरोइन नीतू चंद्रा को हॉलीवुड सिनेमा में मिला लीद रोल, CM नितीश कुमार ने दी शुभकामनाएं