ई बिहार है… जहा 1710 करोड़ की लागत से पूल नहीं सह पाया आंधी और बारिश, भर-भराकर गिरा

बिहार में अक्सर कुछ न कुछ अजीबो गरीबो हरकत होते रहते है. खास बात यह है की इस बार आंधी में जायदा कुछ तो नहीं हुआ लेकिन बिहार के भागलपुर जिले में एक पूल इस आंधी को सह नहीं पाया बता दे कि उस पूल का निर्माण एक हजार सात सौ दस करोड़ की लागत ओ रहा था | इससे जान-माल का तो कुछ नुक्सान नहीं हुआ लेकिन सरकारी खजाने की करोड़ो रुपया का नुस्क्सान हुआ |

विधायक ने लगाया भ्रस्ताचार का आरोप : आपको बता दे की वहां के स्थानीय JDU विधायक प्रो. ललित नारायण मंडल ने बड़ा आरोप लगाया है। उनके मुताबिक पुल को बनाने के दौरान जमकर भ्रष्टाचार हुआ है। इसमें सही समान का उपयोग नहीं हुआ है पैसा खाने के चक्कर में डुप्लीकेट चीजो का इस्तेमाल किया गया है | विधायक के मुताबिक अगुवानी पुल निर्माण कार्य मे गुणवत्ता पुर्ण कार्य नहीं हो रहा है और इसी का नतीजा है कि मामूली सा आंधी और बारिश में पुल का स्ट्रक्चर गिर गया। उन्होंने कहा कि पहले भी वह अगुवानी पुल का निरक्षण कर चुके हैं।

बताया जा रहा है की इसका शिलान्यास 23 फरवरी , 2014 को खगड़िया जिले के परबत्ता में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रखी थी। वहीं 9 मार्च, 2015 को मुख्यमंत्री ने पुल निर्माण का काम शुरू करने के लिए उद्घाटन भी किया था। खगड़िया की ओर से 16 किलाेमीटर और सुल्तानगंज की ओर से चार किलाेमीटर लंबा एप्रोच राेड का निर्माण चल रहा है। इसके बनने से उत्तर बिहार सीधे मिर्जा चाैकी के रास्ते झारखंड से भी जुड़ जायेगा और विक्रमशिला सेतु पर भी वाहनाें का दबाव कम हाेगा।