अच्छी खबर : पटना से नेपाल और बेतिया जाना होगा आसान, बेतिया की दूरी रह जाएगी मात्र 200 KM

बिहार में इस समय सड़को का काम बहुत ही तेजी से चल रहा है. खास बात यह है की इसी बीच बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में भारत सरकार की भारतमाला प्रोजेक्ट के तहत अदलबारी-मानिकपुर फोरलेन और मानिकपुर-साहेबगंज का निर्माण चल रहा है। बताया जा रहा है की मुजफ्फरपुर जिले के 35 गांव में इस प्रोजेक्ट के लिए जमीन अधिग्रहण करना है। लेकिन फिलहाल नौ गांव में ही जमीन अधिग्रहण के लिए भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की ओर से हरी झंडी मिली है।

मीडिया रिपोर्ट की माने तो 107 करोड़ रुपए की राशि जिला भू अर्जन कार्यालय को भूमि अधिग्रहण के लिए कराई गई है। वर्तमान में जिले के साहेबगंज के तीन गांव और पारू अंचल के छह गांव में जमीन अधिग्रहण होगा। इसके लिए तैयार तेज हो गई है। इस सड़क के निर्माण होने से राज्य की राजधानी पटना से नेपाल सीमा की दूरी घटकर मात्र 200 किलोमीटर हो जाएगी।

आपको बता दे की आने वाले कुछ दिनों में यह हाइवे अरेराज होते हुए बाल्मीकि नगर टाइगर रिजर्व तक बनेगा। यह इकलौता ऐसा सड़क होगा जिससे टाइगर रिजर्व को बेहतरीन कनेक्टिविटी मिलेगी और घूमने वाले लोगों के लिए भी सुविधा होगी। जानकारों की माने तो नए चार लेन सड़क का काम पटना के दीघा, छपरा के सोनपुर, मानिकपुर, साहेबगंज होते हुए अरेराज तक बनेगा। केंद्र सरकार द्वारा इस परियोजना को गत वर्ष हरी झंडी मिली थी।

खास बात यह है की अगर यह नेशनल हाईवे बन जाता है, तो बिहार की राजधानी पटना से बेतिया जाने में लोगों को मात्र 200 किलोमीटर का दूरी तय करना होगा। लोग केवल ढाई घंटे में इस दूरी को पूरा कर लेंगे। इस मार्ग के चार लेन चौड़ीकरण होने से राजधानी से बेतिया के रास्ते बाल्मीकि नगर टाइगर रिजर्व तक जाना भी बेहद सुविधा से भरा होगा। यह प्रस्तावित हाईवे बिहार के विकास को नई गति देगा।