खुशखबरी! नीतीश कुमार ने दिया बिहार के सरकारी कर्मियों को रामनवमी का तोहफा, अब मिलेगा 34% महंगाई भत्ता

बिहार सरकारी कर्मियों को लेकर एक बहुत ही बड़ी खबर आ रही है. बता दे की बिहार सरकार ने सप्तम केंद्रीय पुनरीक्षित संरचना में वेतन प्राप्त कर रहे बिहार के सभी सरकारी सेवकों एवं पेंशन भोगियों को मिलने वाले महंगाई भत्ते को 31 फीसदी से बढ़ा कर 34% कर दिया है.

एक जनवरी, 2022 के प्रभाव से मिलेगा : आपको बता दे की बढ़ा हुआ महंगाई भत्ता केंद्र सरकार के कर्मियों की तरह एक जनवरी, 2022 के प्रभाव से मिलेगा. वित्त विभाग ने इससे संबंधित संकल्प शनिवार को जारी कर दिया. विभाग के सचिव (संसाधन) लोकेश कुमार सिंह ने बताया कि महंगाई भत्ता की गणना में 50 पैसे या उससे अधिक पैसे को अगले रुपये में पूर्णांकित कर दिया जायेगा, जबकि 50 पैसे से कम राशि को छोड़ दिया जायेगा. खास बात यह है की वित्त विभाग के इस प्रस्ताव को कैबिनेट ने मंजूरी दी। इस निर्णय से राज्य सरकार पर सालाना 1133 करोड़ का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा।

बिहार आकस्मिकता निधि में बढोतरी : मीडिया रिपोर्ट की माने तो सरकारी सेवक के मामले में उनके मूल वेतन (पे-मैट्रिक्स में विहित वेतन स्तर में आहरित किया जाने वाला वेतन) जबकि पेंशनरों में मूल पेंशन के आधार पर राशि का भुगतान होगा. वहीं बिहार आकस्मिकता निधि की अधिसीमा को 350 करोड़ से बढ़ाकर 30 मार्च तक के लिए अस्थायी रूप से 9500 करोड़ कर दिया गया है.

विभाग को मिला अधिकार : बताया जा रहा है की इसी प्रकार अनाज अधिप्राप्ति कार्य में अनुदान की राशि बढ़ती है तो उसे पुन: कैबिनेट में न भेजकर विभाग को ही स्वीकृति देने का अधिकार होगा. उचित मूल्य पर उद्योगों को कोयला उपलब्ध कराने के लिए नामित एजेंसी की अवधि को तीन साल का विस्तार दिया गया है.