मुजफ्फरपुर वासियों के लिए खुशखबरी: अखाड़ाघाट पुल के समानांतर बनेगा पुल, केंद्र सरकार से मिली स्वीकृति

मुजफ्फरपुर के लोगों के लिए बहुत ही खुशी की खबर है. बता दे की जल्द ही अखाड़ाघाट पुल के समानांतर एक और उच्चस्तरीय पुल का निर्माण होगा. केंद्रीय सड़क निधि योजना से बननेवाले इस पुल की मंजूरी मिलने के साथ राशि भी स्वीकृत कर दी गयी है. 600 मीटर लंबे इस पुल के निर्माण पर 42.77 करोड़ की लागत आयेगी.

दो साल पहले भेजा गया था प्रस्ताव : आपको बता दे की अखाड़ाघाट पुल पर पूर्वी छोड़ पर बनने वाले इस पुल के निर्माण को लेकर करीब दो साल पहले जिला प्रशासन की ओर से बिहार सरकार को प्रस्ताव भेजा गया था. मुजफ्फरपुर के 35 साल बाद के आबादी और बढ़ने वाले ट्रैफिक दबाव को देखते हुए इसका निर्माण कराया जायेगा. खास बात यह है की इस पुल के स्वीकृति मिलने के साथ ही एक किमी के अंतराल में बूढ़ी गंडक से शहर को जोड़ने वाली तीन बड़ी पुल हो जायेगी. चंदवारा में पुल का निर्माण अंतिम चरण में है, अप्रोच रोड के लिए मामला काफी दिनों से अटका हुआ है. इसके बाद यह पुल भी चालू हो जायेगा.

अखाड़ाघाट पुल पर हर दिन लगता है जाम : बताया जा रहा है की मुजफ्फरपुर शहर की लाइफलाइन कहे जाने वाली अखाड़ाघाट पुल पर हर दिन जाम लगता है. खास तौर पर लग्न व पर्व के मौसम में इस पुल से गुजरना मुश्किल हो जाता है. वाहनों की लंबी कतार में स्कूली बस से लेकर एंबुलेंस तक फंसी रहती है. स्थिति यह हो जाती है कि पुल पर पैदल निकलना भी मुश्किल हो जाता है. जीरोमाइल की ओर से आने वाले लोग तीन चार किमी घूमकर दादर पुल बैरिया होकर शहर में आते हैं.

इन इलाकों को होगा फायदा : जानकारों की माने यह पुल बन जाने से उत्तर पूर्वी क्षेत्र से आने वाले लोगों के लिए यह काफी सुविधाजनक हो जायेगा. सरैयागंज टावर होकर शहर जाने वाले लोग अब आसानी से दो पुल होकर आ जा सकते है. वहीं तीसरा पुल से बनारस बैंक चौक होकर आ जा सकेंगे. मालवाहक वाहनों के लिए भी यह पुल काफी कारगर हो जायेगा.