प्रेरणा : 8वीं फेल वो लड़का, जिसने 23 साल की उम्र में खड़ी कर दी करोड़ों रुपए की कंपनी

पुराने समय में अक्सर बच्चों कहा जाता था कि अगर उन्होंने पढ़ाई नहीं की जो जीवन में कुछ नहीं कर पाएंगे। लेकिन इस बात को एक 23 साल के लड़के ने गलत साबित कर दिया है। आज हम जिस शक्स के बारे में बात करने वाले है वह साइबर सिक्योरिटी कंपनी, ‘टैक सिक्योरिटी’ के सीईओ त्रिशनित अरोड़ा इसके सबसे बड़े उदाहरण हैं.

आपको बता दे की लुधियाना के मध्यम परिवार में पैदा हुए इस लड़के का बपचन से ही पढ़ाई में मन नहीं लगता था. खास बात यह है की कम्प्यूटर के प्रति त्रिशनित इतने दीवाने थे कि दूसरे विषयों की किताब खोलकर नहीं देखते थे. परिणाम स्वरूप वो 8वीं तक की परीक्षा पास नहीं कर सके थे. आगे मां-बाप ने खूब कोशिश की, मगर त्रिशनित नहीं माने. फेल होने के बाद उन्होंने रेग्युलर पढ़ाई छोड़ दी और 12वीं तक की पढ़ाई कॉरेस्पॉन्डेंस से की.

बताया जा रहा है की त्रिशनित कम्प्यूटर में ही करियर बनाना का फैसला कर चुके थे. त्रिशनित महज़ 19 साल के थे, जब उन्हें अपने काम के लिए 60 हजार रुपए का चेक मिला था. आगे उन्होंने एथिकल हैकिंग के क्षेत्र में इतना काम किया कि नामी एथिकल हैकर बन गए. काम सीखने के बाद त्रिशनित ने ‘टैक सिक्योरिटी’ नाम की एक कंपनी खड़ी कर दी, जोकि आज करोड़ों रुपए का व्यापार करती है.

मीडिया रिपोर्ट की माने तो त्रिशनित हैकिंग पर ‘हैकिंग टॉक विद त्रिशनित अरोड़ा’, ‘दि हैकिंग एरा’ जैसी शानदार किताबें भी लिख चुके हैं. 23 साल के त्रिशनित आज जिस मुकाम पर है, वो बताता है कि अगर हम किसी चीज़ को लेकर जूनून रखते हैं, और पूरी मेहनत से अपने सपने की तरफ बढ़ते हैं तो हमें सफल होने से कोई नहीं रोक सकता.