बिहार में मिथिला की रोहू मछली को मिलेगा विशेष पहचान, GI TAG के लिए बिहार सरकार केंद्र से करेगी संपर्क

मिथिला के लोगों के लिए यह बहुत ही अच्छी खबर है. बता दे की बिहार में मशहूर रोहू मछली को GI टैग दिलाने के सम्बंध में बिहार केंद्र से संपर्क करने का निर्णय लिया है। मत्स्य विभाग के निदेशक निशात अहमद ने बताया कि मिथिला क्षेत्र की रोहू मछली के अध्ययन और रिपोर्ट तैयार करने के लिए बिहार सरकार दो विशेषज्ञों को नियुक्त किया है। उन्होंने कहा, कार्प की सबसे विशिष्ट प्रजातियों में से एक रोहू मछली मिथिला क्षेत्र की विशेष रूप से दरभंगा व मधुबनी में अपने स्वाद के लिए विख्यात है। उन्होंने कहा की, विस्तृत रिपोर्ट तैयार हो जाने के बाद हम केंद्रीय वाणिज्य मंत्रालय से संपर्क करेंगे की मिथिला की रोहू मछली के लिए GI टैग प्रदान किया जाए।

आपको बता दे की मुख्य रूप से किसी उत्पाद को उसके मूल क्षेत्र से जोड़ने के लिए दिया जाता है। जिस वस्तु को यह टैग मिलता है वह उसकी विशेषता बताता है। मिथिला क्षेत्र में बिहार, झारखंड और नेपाल के पूर्वी तराई के जिलों के कुछ भाग शामिल हैं। खास बात यह है की अहमद ने कहा, हमें उम्मीद है कि इस क्षेत्र की रोहू मछली को GI टैग मिलेगा। इससे इस क्षेत्र में रोहू उत्पादन कर रहे लोगों को काफी लाभ होगा क्योंकि उन्हें एक वैश्विक बाजार व एक नई पहचान मिलेगी। मछली की कीमत में वृद्धि हो जाएगी जिससे इसका सीधा असर उनकी आय पर पड़ेगा।

बताया जा रहा है की इसी प्रकार राय देते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता और दरभंगा के विधायक संजय सरावगी ने कहा, ‘मिथिला क्षेत्र अपने ‘माछ, पान और मखाना’ के लिए जाना जाता है। विशेष रूप से रोहू मछली अपने स्वाद के कारण बिहार, झारखंड व अन्य राज्यों में काफी लोकप्रिय है। यहां की रोहू मछली का स्वाद अन्य राज्यों में पाई जाने वाली रोहू मछलियों से अलग है। बताते चले की इस को लेकर उनका कहना है की मुझे विश्वास है कि मिथिला की रोहू मछली को GI टैग मिलेगा। यह पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग द्वारा एक अच्छी पहल है।