भारतमाला-2 में बिहार की चार और सड़कें होंगी शामिल, नीतीश सरकार ने केंद्र को भेजा प्रस्ताव

पुरे बिहार (bihar) के लिए गौरव की बात है | क्योंकि बिहार के मुख्यमंत्री श्री नितीश कुमार (nitish kumar) ने एक बड़ी योजना के लाभ बिहार को दिए है | भारतमाला-2 में शामिल करने हेतु बुधवार को प्रस्ताव भेजा दिया है। इस प्रस्तावित सड़क की कुल लंबाई 905 किलोमीटर है। इसके अंतर्गत बक्सर-भागलपुर एक्सप्रेस-वे, नवादा-बरौनी-झंझारपुर-लदनिया हाइवे, मांझी-बरौली-बेतिया-बाघा-कुशीनगर हाइवे और कहलगांव-कुरसेला-फारबिसगंज फोरलेन सड़क शामिल हैं। अब ये सभी सडको को भारत्माला-२ में जोड़ा जाएगा |

बताया जा रहा है की इससे पूर्व केंद्र के द्वारा आठ सड़काें को भारतमाला-2 में शामिल करने की मौखिक सहमति दी गई थी। यह चार सड़कों के लिए भी रजामंदी मिलने पर बिहार की कुल 12 सड़कें भारतमाला-2 में शामिल हो जायेंगी। और यह प्रस्ताव निर्माण विभाग के जरिये राजमार्ग के अपरसचिव को भेज दिया गया है | कुछ दिन पहले यानि लगभग २४ सितम्बर को केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (nitin gadkari) के द्वारा भारतमाला प्रोजेक्टस (project) के दूसरे चरण में बिहार की 8 एनएच को शामिल करने पर मौखिक सहमति दे दी गयी थी। वहीं इस परियोजना में सकारात्मक पहल भी शुरू हो गया है। बताया जा रहा है कि यह सड़के का आरंभिक आकलन लगभग 50- 60 हजार करोड़ रुपये का है।

यह भी पढ़ें  बिहार के इस जिले में 5000 करोड़ की लागत से शुरू हुआ इकोनॉमिकल कॉरिडोर का निर्माण

आपको बता दें कि इस परियोजना में भारत-नेपाल बॉर्डर (india nepal border) इलाके वाले सड़क को फोरलेन बनाना, पटना-कोलकाता एक्सप्रेस वे को शानदार बनाना, साथ ही बक्सर-अरवल-जहानाबाद-बिहारशरीफ हाइवे को फोरलेन बनान, साथ ही दलसिंहसराय-सिमरी बख्तियारपुर को फोरलेन बनाना, दीघवारा-मशरख-पिपराकोठी-मोतिहारी-रक्सौल फोरलेन बनाना, और मशरख-मुजफ्फरपुर हाइवे भी शामिल हैं। जिससे लोगो को आवाजाही में मुस्किल का सामना नहीं करना पड़ेगा | और लोग आसानी से आवागवन कर सकेंगे |