बिहार बोर्ड : मैट्रिक परीक्षा से पहले बिहार बोर्ड ने छात्रों को दी यह राहत जानिये पूरी खबर….

इंटर का एग्जाम खत्म होने के बाद 17 फरवरी से अब पुरे बिहार में मैट्रिक की परीक्षा की तैयारी चल रही है | बता दे की बिहार बोर्ड ने मैट्रिक परीक्षा में भी जूता-मोजा पहनकर परीक्षा केंद्र में प्रवेश की अनुमति दी है। बिहार बोर्ड की मानें तो वर्तमान में ठंड के कारण छात्रहित को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया है। मैट्रिक के सभी परीक्षार्थी जूता-मोजा पहन कर भी केंद्र पर आ सकते हैं।

बताया जा रहा है की इसकी जानकारी बोर्ड द्वारा सभी जिला शिक्षा पदाधिकारी, केंद्राधीक्षक, अभिभावक और परीक्षार्थियों को दी गयी है। ज्ञात हो कि बोर्ड द्वारा प्रवेश पत्र पर जूता मोजा पहन कर नहीं आने का निर्देश परीक्षार्थियों को दिया गया था। लेकिन छात्र हित में बोर्ड ने इसमें संशोधन करके जूता-मोजा पहन कर केंद्र पर आने की अनुमति परीक्षार्थियों को दी है। इससे पहले इंटरमीडिएट परीक्षा में भी बोर्ड द्वारा अनुमति दी जा चुकी है।

यह भी पढ़ें  बिहार में 280 ग्रामीण सड़क और 84 पुलों को केंद्र से मिली मंजूरी, 1600 करोड़ रुपये होंगे खर्च

आपको बता दे की बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा में परीक्षा केन्द्र पर मोबाइल, ब्लू टूथ, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट के प्रयोग पर पहले से ही पाबंदी है। वहीं, इस परीक्षा में अगर परीक्षार्थी व्हाइटनर, इरेजर या नाखून का भी प्रयोग कॉपी या ओएमआर शीट पर करते हैं तो उनका रिजल्ट रद्द कर दिया जाएगा।

खास बात यह है की 17 फरवरी से आयोजित मैट्रिक परीक्षा को लेकर बोर्ड ने सभी केन्द्राधीक्षकों को इस संबंध में निर्देश देते हुए सख्ती से पालन कराने का आदेश दिया है। मैट्रिक परीक्षा 2022 का संचालन 17 से 24 फरवरी तक दोनों पालियों में होगा। राज्य भर में 1525 परीक्षा केंद्र बनाये गये हैं। परीक्षा दो पाली में ली जानी है। पहली पाली में आठ लाख और दूसरी पाली में आठ लाख छात्र शामिल होंगे।

यह भी पढ़ें  खुशखबरी : बिहार के इन तीन शहरों को बहुत जल्द मिलेगी हवाईअड्डे का तोहफा जानिये लिस्ट में आपका शहर है की नहीं?