2022 आते ही राजधानी पटना में चल रही मेट्रो की काम ने पकड़ा रफ़्तार अगले महीने बनने शुरू हो जायेंगे स्टेशन

नया साल आते ही राजधानी में बन चल रहे मेट्रो निर्माण की कार्य ने पकड़ लिया है स्पीड मेट्रो डिपो की भूमि की समस्या दूर होने के बाद अब आर्थिक मोर्चे पर भी मेट्रो के पास प्रस्ताव आ रहे हैं। जापान इंटरनेशनल को-आपरेशन एजेंसी (जायका) के बाद अब एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी) ने भी पटना मेट्रो प्रोजेक्ट में दिलचस्पी दिखाई है। सूत्रों के अनुसार, एडीबी के अधिकारियों ने इस बाबत पटना मेट्रो के वरीय पदाधिकारियों से मुलाकात भी की है। जायका के साथ मेट्रो निर्माण के ऋण के लिए पहले ही करार हो चुका है, मगर अभी राशि जारी नहीं हुई है। एडीबी के साथ भी अगर बात बनती है, तो मेट्रो के संभावित विस्तार की योजना बन सकती है।

यह भी पढ़ें  LPG Price : जनता की जेब पर बढ़ेगा बोझ, 1 जून से 1100 रुपए का हो सकता है घरेलू एलपीजी सिलेंडर

अगले महीने बनने शुरू हो जायेंगे अंडरग्राउंड स्टेशन : नेटवर्क और स्टेशनों दोनों पर काम फरवरी 2022 में शुरू होने की संभावना है। क्योंकि PMRC को जनवरी के अंत तक जापान इंटरनेशनल कॉर्पोरेशन एजेंसी (JICA) से ऋण मिल सकता है। आकाशवाणी से राजेंद्र नगर तक 7.9 किलोमीटर लंबे छह अंडरग्राउंड स्टेशन, अंडरग्राउंड रैंप और ट्विन टनल का निर्माण 1,989 करोड़ रुपये से किया जाएगा। यह प्रोजेक्ट एलएंडटी कंस्ट्रक्शन को दिया गया था।

कॉरिडोर II पर भूमिगत निर्माण कार्य में जुड़वां सुरंगों का डिजाइन और निर्माण, राजेंद्र नगर में भूमिगत रैंप और राजेंद्र नगर (विनिमेय स्टेशन), मोइनुल हक स्टेडियम , पटना विश्वविद्यालय, पीएमसीएच, गांधी मैदान और आकाशवाणी में छह भूमिगत मेट्रो स्टेशन शामिल हैं ।

यह भी पढ़ें  पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से जुड़ेगा बक्सर-हैदरिया फोरलेन, पटना से दिल्ली आना-जाना होगा आसान

खबरों की माने तो एलिवेटेड स्टेशन दानापुर, सगुना मोड़ , आरपीएस मोड़, पाटलिपुत्र, रामकृष्ण नगर में निर्धारित हैं। 7.39 किलोमीटर लंबी इस परियोजना पर काम कर रही हैं, जिसकी लागत 553 करोड़ रुपये है। मलाही पकरी से भूतनाथ रोड तक 112 पिलर बनाए गए हैं, जबकि कॉरिडोर II के लिए एलिवेटेड नेटवर्क के लिए कुल 210 पिलर बनाए जाएंगे।