बिहार में रोजगार: नीतीश सरकार ने टाटा टेक्नोलॉजी से किया करार, मैट्रिकुलेशन के बाद करें ये कोर्स

बिहार सरकार युवाओं को रोजगार मुहैया कराने के लिए कवायद कर रही है. जिसके लिए बिहार सरकार ने टाटा टेक्रोलॉजी के साथ करार भी किया है. जिसकी मदद से बिहार में ही रोजगार सृजन के प्रयास किए जाएंगे. साथ ही आईटीआई को सेंटर्स ऑफ एक्सीलेंस बनाने की योजना पर विचार किया जा रहा है. साथ ही अगले साल से छह नए कोर्स शुरू करने जा रहे है. आपको बता दे की बिहार को औद्योगिकीकरण की राह पर आगे बढ़ाने के प्रयास के तहत इथेनॉल की फैक्ट्रियों के जरिये बेरोजगारी दूर करने की योजना पर द्रुत गति से कार्य हो रहे हैं, वहीं बिहार के सभी सरकारी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान यानी आईटीआई को सेंटर ऑफ एक्सीलेंस बनाने की योजना पर विचार किया जा रहा है. छह नए कोर्स की शुरुआत अगले साल से होने जा रही है जो कि नई एडवांस टेक्नोलाजी पर आधारित होंगे.

यह भी पढ़ें  Bank Holidays: मार्च में पूरे 13 दिन बंद रहेंगे बैंक, बीच में लगातार 4 दिन बैंकों में नहीं होंगे कामकाम, चेक करें लिस्ट

बता दे की बिहार सरकार में श्रम संसाधन मंत्री जीवेश कुमार मिश्रा ने बताया कि बिहार के युवाओं को रोजगार दिलाने के लिए आईटीआई अपग्रेडेशन के कार्य पर तेजी से काम हो रहा है. बता दे की जिसमें छात्रों को एडवांस टेक्रोलॉजी की ट्रेनिंग मिलेगी. जिसकी मदद से उन्हें मशीन लर्निंग, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, ग्राफिक डिजाइन, रोबॉटिक्स मेंटेनेंस, इलेक्ट्रिकल जैसी तकनीक की ट्रेनिंग दी जाएगी. वहीं यह ट्रेनिंग ऑनलाइन के साथ ही फिजिकल भी देने का प्रबंध होगा.

बिहार सरकार में श्रम संसाधन मंत्री जीवेश कुमार मिश्रा ने बताया कि छात्रों को एडवांस टेक्नोलॉजी की ट्रेनिंग सुविधा होगी. इस तकनीक के तहत आईटीआई में छात्रों को मशीन लर्निंग, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, ग्राफिक डिजाइन, रोबोटिक मेंटेनेंस, इलेक्ट्रिकल जैसे तकनीक में मशीनें लगाकर आइटी कंपनियों सहित अन्य इंडस्ट्री के मदद से आइटीआइ को और विकसित बनाया जाएगा. छात्रों के लिए ऑनलाइन ट्रेनिंग के साथ ही फिजिकल ट्रेनिंग का भी प्रबंध होगा.

यह भी पढ़ें  मछली पालन के क्षेत्र में आगे बढ़ रहे हैं कटिहार के किसान, बिहार सरकार इस स्कीम से बन रहे हैं आत्मनिर्भर

बिहार सरकार में श्रम संसाधन मंत्री जीवेश कुमार मिश्रा ने बताया कि सभी आईटीआई को टाटा टेक्नोलॉजी ट्रेनर के साथ मदद करेगी और नए अपग्रेड टूल्स मशीनरी एवं सिलेबस बनाने में सहयोग करेगी. आईटीआई के देखरेख, प्रबंधन और संचालन के लिए प्रबंध समितियों का गठन करना अनिवार्य कर दिया गया है. बता दे की यह जानना आवश्यक है कि दसवीं पास युवा आईआईटी कोर्स में दाखिला ले सकते हैं जो कि रोजगार के दृष्टिकोण से काफी बढ़िया है.