अंजना ने बढ़ाया बिहार का मान, बैडमिंटन खिलाडिय़ों में मिली 18वीं रैंक चारो तरफ हो रही तारीफ़

बिहार के कौशलेंद्र कुमार की पुत्री अंजना कुमारी ने इतिहास रच दिया है। उन्होंने वैश्विक स्तर पर न सिर्फ दाउदनगर का मान बढ़ाया, बल्कि बिहार को गौरवान्वित किया है। आपको बता दे की भारत की ओर से खेलने वाले बैडमिंटन खिलाडिय़ों की टापर्स की सूची में वह 18वें स्थान पर आ गई हैं, जबकि अभी वैश्विक स्तर पर बैडमिंटन के अंतरराष्ट्रीय खिलाडिय़ों के टाप 200 खिलाडिय़ों में 199वें रैंक पर हैं।

पिता कौशलेंद्र कुमार ने बताया कि जन्मभूमि और बिहार के प्रति उनका आत्मीय लगाव है। वह अक्टूबर 2000 में गोवा गए और अभी कस्टम विभाग में अप्रेजल (मूल्य निरूपक) के पद पर कार्यरत हैं। बताया कि उनकी पत्नी बबीता कुमारी और उन्होंने लगातार पुत्री को अपने लक्ष्य के प्रति अडिग रहने को प्रेरित किया। नतीजतन, अंजना ने भी कोई कसर नहीं छोड़ी और उसने आज वैश्विक स्तर पर अपने नाम को प्रतिस्थापित किया है।

यह भी पढ़ें  पटना समेत इन चार शहरों को बनाया जाएगा स्मार्ट सिटी, IIT Patna ने उठाया जिम्मा

बताया जा रहा है की अंजना के चाचा हसपुरा हाई स्कूल में कार्यरत अंबुज कुमार उर्फ संतोष कुमार ने बताया कि कौशलेंद्र कुमार वर्ष 2003 में सपरिवार गोवा चले गए। अंजना का जन्म 1999 में हुआ है। आज जब वैश्विक स्तर पर अंजना ने अपनी डंका बजाया तो उसके चाचा अंबुज ने अंजना की दादी और अपनी मां कुमारी कुमकुम को मिठाई खिलाकर खुशी जाहिर किया। दादी ने पोती की सफलता पर खुशी जाहिर की और दुआएं दीं। बताया कि कौशलेंद्र कुमार रतन पुर आते रहते हैं। अंजना खेल के प्रति समर्पण में कोई कमी ना रह जाए इसलिए उन्होंने गोवा से दाउदनगर आना कम कर दिया। पारिवारिक आयोजनों में वे लगातार आते रहते हैं। अंजना के बड़े भाई आनंद राज स्नातक हैं।

यह भी पढ़ें  15 दिन के अन्दर 2 लाख से अधिक शिक्षकों का होगा तबादला, शिक्षिका को मिलेगा मनचाहा जगह

एसडीएम ने दी शुभकामनाये : अंजना की सफलता पर एसडीएम कुमारी अनुपम सिंह ने कहा कि लड़कियां हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं। उससे अन्य भी प्रेरित होंगी। समाजसेवी डा. प्रकाश चंद्रा ने कहा कि शिक्षा के साथ खेल जगत में भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहले गोरडीहां के ईशान किशन ने और अब रतनपुर की अंजना ने वैश्विक प्रतिष्ठा दिलायी है।