बिहार की राजनीति के वो दिग्गज जो इस साल दुनिया को कह गए अलविदा

अभी 2021 का अंतिम महीना चल रहा है. जो कुछ ही दिनों के बाद 2022 आ जायगा बता दे की साल 2021 किसी के लिए खुशहाल रहा तो किसी के लिए दुख भरा. इस साल बिहार के कई बड़े दिग्गज नेताओं ने भी दुनिया को अलविदा कह दिया. कांग्रेस के बड़े नेता बिहार सरकार के मंत्री रहे सदानंद सिंह, पूर्व विधायक एवं प्रसिद्ध साहित्यकार गौरीशंकर नाग दंश ने अलविदा कह दिया.

साल 2021 में सदानंद सिंह ने भी अलविदा कह दिया : बिहार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष के साथ-साथ कई पदों पर रह चुके सदानंद सिंह ने इस साल अंतिम सांस ले ली है. जानकारी के अनुसार सदानंद सिंह का निधन पटना के सगुना मोड़ स्थित क्यूरिस अस्पताल में हुआ था. अस्पताल में भर्ती होने के बाद अलग-अलग राजनीतिक दलों के नेताओं ने जाकर उनसे अस्पताल में मुलाकात की थी. सदानंद सिंह के निधन के बाद से बिहार के राजनीतिक की एक अध्याय की समाप्ति मानी जाती है. सदानंद सिंह बिहार में कांग्रेस के सबसे वरिष्ठ राजनेता थे. बता दे की वो कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष के अलावा लंबे समय तक बिहार विधानसभा के अध्यक्ष भी रहे थे.

यह भी पढ़ें  बिहार में 300 डीलरों की होगी बहाली, जाने...

पूर्व विधायक एवं प्रसिद्ध साहित्यकार गौरीशंकर नाग दंश ने भी अलविदा कह दिया : पूर्व विधायक एवं प्रसिद्ध साहित्यकार गौरीशंकर नाग दंश ने भी अलविदा कह दिया. जानकारी के लिए बता दे की लोक दल का जनता दल में विलय होने के बाद 1990 के चुनाव में नाग दंश मेजरगंज विधायक बने थे. पुन: राजनीतिक उथल-पुथल में वर्ष 2000 में भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव जीते. नाग दंश ने साहित्य की दुनिया में भी अपनी प्रतिभा दिखाई. वे एक सरल  एवं मृदुभाषी व्यक्तित्व के धनी थे. 


साल 2020 में बिहार के दिग्गज नेता और समाजवादी रघुवंश प्रसाद सिंह ने भी अलविदा कह दिया : पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह का भी निधन साल 2021 शुरू होने से पहले 2020 के अंतिम दिनों में हो गया. वह आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेहद करीबी थे. मरने से पहले उन्होंने पार्टी से इस्तीफा दिया था, जिसे लालू ने अस्वीकार कर दिया था. हालत खराब होने के बाद उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था जिसके बाद उनका निधन हो गया. 1977 से सक्रिय सियासत का हिस्सा बने रघुवंश प्रसाद, लालू प्रसाद यादव के संकटमोचक माने जाते रहे. वे लगातार चार बार वैशाली से सांसद रहे.  यूपीए की सरकार में मंत्री भी रहे. 

यह भी पढ़ें  बिहार बोर्ड 11वीं कक्षा सत्र 2022-24 में अब मुफ्त होगा नामांकन, जल्द शुरू होगी आवेदन की प्रक्रिया