बिहार के इस रेलवे स्टेशन को हाईटेक बनाने का फरमान जारी काम शुरू…

बिहार में रेलवे विकास परियोजना के अंतर्गत बिहार के सभी रेलवे स्टेशनों पर लिफ्ट लगाने की कवायद शुरू की जा चुकी है। जिसके लिए बिहार सरकार की ओर से टेंडर भी जारी किया जा चुका है। इसी कड़ी में बिहार के एक रेलवे स्टेशन पर जल्द ही लोगों को शानदार एक्सीलरेटर की सुविधा मिलेगी जिसके बाद आसपास के लोगो के लिए अनेक सुविधा बहाल हो पायेगी। इसे लगने से बूढ़े लोग बच्चे को और विकलांग लोगो को चढ़ने-उतरने में बहुत राहत मिलेगी |

बताया जा रहा है की नए रूप में अब दिखेगा सासाराम के रेलवे स्टेशन का जंक्शन, आधुनिकीकरण की प्रक्रिया के तहत विकास के कार्य शुरू होंगे। सोमवार को 12.5 करोड़ की लागत से होने वाली एक साथ कई योजनाओं का शिलान्यास व उद्घाटन किया। सासाराम रेलवे स्टेशन को मॉडल बनाने की दिशा में रेलवे ने आदर्श स्टेशन में शुमार सासाराम जंक्शन को आधुनिक बनाने को लेकर सोमवार को एक साथ कई विकास योजनाओं का स्थानीय सांसद छेदी पासवान के द्वारा आयोजित कार्यक्रम के माध्यम से शिलान्यास व उद्घाटन किया गया। सासाराम रेलवे स्टेशन के सर्वांगिण विकास के लिए तैयार तकरीबन आधा दर्जन विकास योजनाओं का शिलान्यास किया गया।

यह भी पढ़ें  लंदन, आस्ट्रेलिया और जापान तक जाता है बिहार का मक्का, फ्रांस और सिंगापुर की कंपनियों के लिए भी डिमांड

आपको बता दे की रेलवे स्टेशन पर बनकर तैयार नए प्लेटफॉर्म व दो यात्री शेड एवं कुछ दिन पूर्व बने उपरीपुल के विस्तार हुआ है जिसका उद्घाटन किया गया। इसके अलावा सासाराम के लोगों के लिये पुराने सीढ़ी के चौड़ीकरण व विस्तार करने की आधारशिला रखी गई। सांसद छेदी पासवान ने कहा कि क्षेत्र की जनता की मांग पूरी करते हुए रेलवे ने स्टेडियम के जीर्णोद्धार के लिए राशि आवंटित की है, जिसका कार्य अब प्रारंभ हो जाएगा। वहीं, दीनदयाल उपाध्याय रेल मंडल के डीआरएम पंकज सक्सेना ने शिलान्यास व उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि सासाराम रेल जंक्शन के विकास से जुड़ी योजनाओं का सर्वांगीण विकास हेतु एक साथ कई योजना का शिलान्यास व उद्घाटन किया गया। इसी कड़ी में ज्यादा से ज्यादा विकासपरक योजनाएं भी शुरू की जा रही हैं। रेलवे में सभी लेनदेन कैशलेस किए जा रहे हैं। रेल वेंडरों को भी डिजिटल प्लेटफॉर्म पर लाया जा रहा है। मंडल रेल प्रबंधक पंकज सक्सेना ने रेलवे जंक्शन की पूर्व निर्धारित योजनाओं के साथ ही नई योजनाओं की जानकारी दी।

यह भी पढ़ें  Scholarship Scheme 2022 : बिहार के दो लाख आईटीआई छात्रों को मिलेगी छात्रवृत्ति

इसके बारे में रेल अधिकारियों ने बताया कि कुछ तकनीकी कारणों से एस्केलेटर निर्माण की प्रक्रिया शुरू नहीं हो पा रही है। वरिष्ठ नागरिकों, दिव्यांगों व बीमार लोगों की परेशानी को देखते हुए लिफ्ट लगाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। बता दे की स्टेशन पर एस्केलेटर के साथ लिफ्ट लगाने का निर्णय तीन वर्ष पूर्व लिया गया था। 21 जनवरी 2019 को एफओबी तथा आठ मार्च 2019 को एस्केलेटर लगाने की योजना का शिलान्यास किया गया था।