बिहार: पटना नगर निगम ने शुरू की छठ की तैयारी, छह नवंबर तक तैयार हो जाएंगे 93 घाट

बिहार में छठ महापर्व की तैयारी नगर निगम ने शुरू कर दी है। बिहार राज्य में पटना नगर निगम ने क्षेत्र में सभी 93 घाटों को छह नवंबर तक तैयार करने का लक्ष्य दिया गया है। वहीं बिहार में सात नवंबर से छठ व्रतियों के लिए साफ-सुथरा छठ घाट उपलब्ध करा दिया जाएगा। आपको बता दे की बिहार में घाटों की सफाई तीन चरण में पूरी करनी है। साथ ही प्रत्येक घाट के एक किलोमीटर के क्षेत्र को नो टॉलरेंस एरिया घोषित किया जाएगा।

बिहार के पटना में स्थित ”काली घाट के पास एक सफाई कर्मचारी ने कहा। “कृत्रिम तालाबों को बाहर निकाल दिया जाएगा और हम जमीन को समतल करने के लिए कीचड़ और बचे हुए कीचड़ को ले लेंगे। इसलिए, हमें भक्तों के लिए आराम से पूजा करने के लिए घाटों को साफ रखना चाहिए  ।

यह भी पढ़ें  ये है बिहार के 'स्पाइडर गर्ल्स' : जाने इन सुपर गर्ल्स की कारनामे

एक अन्य कार्यकर्ता ने कहा, “इन सभी घाटों पर विसर्जन नहीं हुआ क्योंकि कृत्रिम तालाब बनाए गए थे। फिर भी, हमने छठ पूजा के दौरान भीड़ को ध्यान में रखते हुए उन्हें हटाने का फैसला किया है।” नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा ने कहा कि सोमवार को शुरू हुआ सफाई अभियान हफ्तों तक चलेगा, जिससे छठ पर्व से पहले नदी और तट साफ हो जाएंगे। “सभी मंडलों में, घाटों की सफाई के लिए पर्याप्त सफाई कर्मियों की प्रतिनियुक्ति की गई है। जिन घाटों को फिट घोषित किया जाएगा, वहां जिला प्रशासन के निर्देश पर छठ पूजा की व्यवस्था की जाएगी।
उन्होंने कहा, “घाटों की सफाई नगर निकाय का नियमित अभ्यास है।”

यह भी पढ़ें  बिहार के इस शहर को मिली नई कंक्रीट हवाई पट्टी, हर मौसम में प्रशिक्षण ले सकेंगे पायलट

बिहार के पटना में पहले चरण की सफाई चार नवंबर तक पूरी करने के बाद पांच नवंबर से हर घाट के एक किलोमीटर का दायरा नो टॉलरेंस एरिया घोषित कर दिया जाएगा। नो टॉलरेंस एरिया का मतलब यह है कि चार नवंबर तक नगर निगम पहले चरण में सभी घाटों की सफाई करने के बाद प्रत्येक घाट और उसके एक किलोमीटर के दायरे को साफ और स्वच्छ रखेगा। 

नो टॉलरेंस एरिया में आस-पास के लोग जहां-तहां कूड़ा-कचरा नहीं फेकेंगे। गंगा नदी समेत एक किलोमीटर के दायरे में गंदगी फैलाने वाले लोगों को चिह्नित किया जाएगा। ऐसा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी और जुर्माना भी लगाया जाएगा। इसके लिए संबंधित अंचल के कार्यपालक पदाधिकारी और कार्यपालक अभियंता को जिम्मेवारी दी गई है। पहले चरण की सफाई पूरी करने के बाद दोनों पदाधिकारी इसे नो टॉलरेंस एरिया घोषित करेंगे। 

यह भी पढ़ें  Bihar Weather : बिहार में अगले चार दिनों तक आंधी-पानी व ठनका के आसार, पांच डिग्री तक कम हुआ तापमान