अनपढ़ बिहारी लड़के का कमाल, बना डाला मेड इन बिहार हेलीकॉप्टर, करोड़ों का ऑफर ठुकराया

मेड इन बिहार हेलीकॉप्टर बनाने वाले अमरजीत पासवान जिसने करोड़ों का ऑफर ठुकराया, आज हम आपको ऐसे अनपढ़ बिहार के लड़के की कहानी बताने जा रहे है| जो एक बार फिर से दोहरा दिया की बिहारी भी किसी से कम नही है| बिहार के गोपालगंज जिले के बरौली प्रखंड के बेलसंड गांव निवासी अमरजीत मांझी नाम युवक इन दिनों हेलिकॉप्टर बनाकर उसे उड़ाने में व्यस्त हैं । बिहार के अमरजीत अनपढ़ है लेकिन उनके हौसले कम नहीं हैं । जीवन का एक ही लक्ष्य बनाया कि हेलिकॉप्टर बनाकर उसे उड़ाना हैं।

बिहार के अमरजीत पासवान मेहनत के दम पर हेलीकाप्टर बनाने की कहानी शुरू होती है और 1 साल से ज्यादा से हेलीकाप्टर बनाने में लगे हुए है। हिंदुस्तान से बाहर से बिहार के लाल को ऑफर भी मिला लेकिन बिहार के अमरजीत बाबू देश के लिए कुछ करने के जज्बे से मेहनत में लग गए। बिहार के गोपालगंज के छोटे से गाँव भेलसड़ में रहकर उन्होंने यह सपना देखा था और जब उनके पिता हेलीकाप्टर उड़ने के बारे में पूछा तो उन्होंने पहले पिता जी को मिनी हेलीकाप्टर उड़ा कर दिखाया और इस तरह बिहार के लाल ने माता पिता को विश्वास दिलवाया।

यह भी पढ़ें  88 साल बाद रेल नेटवर्क से एक होगा म‍िथिलांचल, 100 KM कम हो जाएगी झंझारपुर से सहरसा की दूरी

पहले बिहार के अमरजीत मैकेनिक का काम करते थे और फिर वो दुबई गए और वहाँ उनको काम में मज़ा नहीं आया तो उन्होंने वापस बिहार आकर माँ को कहा कि मुझे हेलीकाप्टर बना कर उड़ाना है तो माँ ने कहा कि हम गरीब कैसे तेरी मदद करेंगे तेरी हेलीकाप्टर बनाने में, फिर उन्होंने माँ को समझाया कि वो सब कर लेंगे। तो उन्होंने अपने जज्बे और जिद्द पकड़कर इस हेलीकाप्टर बनाने की धुन सवार कर काम पर लग गए और उनकी माताजी ने बताया कि बचपन से ही ऐसे गाड़ियां और मैकेनिक का शौक था जो युवा अवस्था में आकर उन्होंने इससे अपना लक्ष्य बना लिया।

यह भी पढ़ें  तेज हवाओं के साथ पूरे बिहार में आज बारिश की संभावना, इन जिलों के लिए मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

बिहार के अमरजीत मांझी,रामबली मांझी के पांचवें बेटे हैं। बिहार राज्य के अमरजीत पैसे के अभाव में केवल पहली कक्षा तक ही स्कुल गए थें। फिर गांव के आस-पास मजदूरी का काम किया। कुछ दिन असम में तेल रिफाइनरी मे काम सीखने के बाद कुछ सालों तक नौकरी की। फिर कुछ सालों के लिए वो विदेश गए । वहीं पर बिहार के लाल ने हेलिकॉप्टर बनाने की जानकारी प्राप्त की और फिर फिर घर आने के बाद इसमें पुरे तन मन से जुट गए ।

हेलीकाप्टर का लगभग अस्सी फीसदी काम पुरा हो चुका है ।इंजन से लेकर ड्राइवर की सीट,पंखे,सहित लगभग ढांचा खड़ा कर दिया है ।इंजन से जुड़े कुछ काम के बाद इसकी फाईनल टेस्टिंग होगी फिर जुन या जुलाई में यह उड़ान भरेगा ।

यह भी पढ़ें  अच्छी खबर: 12 अप्रैल से चलेगी सुल्तानगंज से सीधे देवघर की ट्रेन, जानें क्या है इसका टाइम टेबल