देवरानी-जेठानी ने एक साथ पास की UPSC परीक्षा, एक बनीं प्रिंसिपल और दूसरी DSP

यूपीएससी की परीक्षा को अपने आप में सबसे कठिन और कड़ा एग्जाम माना जाता है | असंभव की भी एक न एक दिन शुरुआत करनी ही पड़ती है | और जब उसे सफलता मिलती है तो वही शख्स आने वाले पीढ़ी के लिए मार्ग दर्शन का कारण बनते हैं | जो भी IAS बनते है वो  लोगों के लिए मिसाल बन जाते हैं | गरीबी को अपने रास्ते में नहीं आने देते वो लोग कुछ भी कर सकते है जी हाँ दोस्तों, उत्साह और कठोर परिश्रम के द्वारा किसी भी लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है। हम इसी तरह का उदहारण पेश कर रहे है | जिसे लोग कॉलेज के समय में इंग्लिश में थोडा कमजोर होने के कारण उसका मजाक बनाते थे | आज उसी ने जो कर दिखाया वह अपने आप में एक मिसाल है |

यह भी पढ़ें  IAS इंटरव्यू सवाल : एक वर्ष में कितने मिनट होते हैं?

आज हम जिन देवरानी जेठानी के बारे में बताने जा रहे हैंउन्होंने एक साथ मिलकर यूपीपीएससी एग्जाम (UPSC Exam) की तैयारी की और सफल हुईं।ये देवरानी-जेठानी की अनोखी जोड़ी है UP के बलिया जिले की,जिन्होंने उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की साल 2018 की परीक्षा उत्तीर्ण की। इनमें से जेठानी शालिनी श्रीवास्तव (Shalini Srivastava) का सलेक्शन प्रिंसिपल की पोस्ट के लिए हुआ hai.

और देवरानी नमिता शरण (Namita Sharan) का सलेक्शन पुलिस उपाधीक्षक की पोस्ट के लिए हुआ।तभी UPSC 2018 में पुलिस उपाधीक्षक की पोस्ट के लिए उनका चयन हो गया।वे कहती हैं कि पुलिस उपाधीक्षक के पद पर कार्यरत रह कर वे महिलाओं की समस्याओं और समाज में व्याप्त कुरीतियों को ख़त्म करने के प्रयास करेंगी। इसके साथ ही नमिता पुलिस और आम जनता के मध्य की दूरी है को भी कम करने का प्रयास करेंगी, जिससे लोग पुलिस से डरे नहीं बल्कि बेझिझक होकर अपराधों के खिलाफ आवाज़ उठाएँ।

यह भी पढ़ें  स्टूडेंट्स पढ़ने नहीं आते तो सैलरी का 23 लाख यूनिवर्सिटी को लौटाने पहुंचा टीचर