मां करती थीं मजदूरी और सिर्फ 22 साल की उम्र में बेटी UPSC निकाल के बनी IAS अधिकारी

यूपीएससी की परीक्षा को अपने आप में सबसे कठिन और कड़ा एग्जाम माना जाता है | असंभव की भी एक न एक दिन शुरुआत करनी ही पड़ती है | और जब उसे सफलता मिलती है तो वही शख्स आने वाले पीढ़ी के लिए मार्ग दर्शन का कारण बनते हैं | जो भी IAS बनते है वो  लोगों के लिए मिसाल बन जाते हैं | गरीबी को अपने रास्ते में नहीं आने देते वो लोग कुछ भी कर सकते है जी हाँ दोस्तों, उत्साह और कठोर परिश्रम के द्वारा किसी भी लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है। हम इसी तरह का उदहारण पेश कर रहे है | जिसे लोग कॉलेज के समय में इंग्लिश में थोडा कमजोर होने के कारण उसका मजाक बनाते थे | आज उसी ने जो कर दिखाया वह अपने आप में एक मिसाल है | लेकिन आज हम बात जिस महिला की कर रहे हैं उन्होंने समाज की इन दकियानूसी सोच रखने वाले लोगों को दरकिनार कर बेहतरीन सफर तय किया।

यह भी पढ़ें  IAS Interview Questions: ऐसी भाषा जिसे सीधा या उल्टा बोलने पर एक ही अर्थ निकलता है?

राजस्थान केएक छोटे से शहर अजमेर से आने वाली स्वाति मीणा पढ़ाई में शुरू से ही अव्वल छात्रा रही हैं।‌ मां का सपना था बेटी डॉक्टर बने, स्वाति भी डॉक्टर बनना चाहती थी। जब आठवीं क्लास में पढ़ रही थी, तब उनकी मुलाकात मां की एक कजन अधिकारी से हुई। तभी से उनकी ख्वाहिश अफसर बनने की हुई। लिहाजा 12वीं के बाद सिविल सर्विसेज की तैयारी शुरू कर दी परिवार वालो ने भी इनके इस सपने को साकार करने में साथ निभाया |

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार स्वाति एक गरीब घर की लड़की है और इनकी माँ मजदूरी करती है | ऐसे वक्त में पिता मदद करते रहे, समय-समय पर तैयारी करवाई और खुद साक्षात्कार लिया। स्वाति के बेहतर पढ़ाई में पूरी मदद की। यूपीएससी का एग्जाम दिया। साल 2007 के घोषित नतीजे में स्वाति ने 260वीं रैंक हासिल कर आईएएस अफसर बनने का गौरव प्राप्त किया। बैच की सबसे कम उम्र की आईएएस स्वाति ने 22 साल की उम्र में यह सफलता पाई। उन्हें मध्यप्रदेश कैडर आवंटित हुआ। स्वाति से जब एक इंटरव्यू के दौरान पूछा गया की आपके इस सफलता के पीछे किसका हाथ है तो स्वाति ने नाम आँखों से बताई की इसके पीछे मेरी मेहनत के साथ साथ मेरी माँ का भी अहम योगदान है |

यह भी पढ़ें  ​IAS Interview Questions: वह कौन सा अंग है जो बचपन से बूढ़े हो जाने तक नहीं बढ़ता?