बिहार में 18 सड़कों को राष्ट्रीय राजमार्ग का दर्जा, 20 जिलों को लाभ

पटना के तीसरे बायपास के रूप में चर्चित बिहटा-सरमेरा रोड के साथ राज्य की 18 सड़कों को राष्ट्रीय उच्च पथ (एनएच) का दर्जा मिल गया है। इसी के साथ राज्य में एनएच की लंबाई 1300 किलोमीटर बढ़ गई। इससे बीस जिलों को लाभ होगा। 
केन्द्र सरकार द्वारा एनएच घोषित किये जाने के बावजूद बिहटा-सरमेरा पथ के चल रहे निर्माण पर कोई असर नहीं होगा। राज्य सरकार की यह योजना पहले की तरह चलती रहेगी। केन्द्र ने इन सड़कों को अभी एनएच बनाने की सहमति सैद्धांतिक रूप में दी है।

डीपीआर पर मुहर लगने के बाद इन सड़कों की जिम्मेदारी केन्द्र सरकार की हो जाएगी। इनकी चौड़ाई तो बढ़ेगी ही, रख-रखाव की जिम्मेवारी भी केंद्र की होगी। 
राज्य सरकार ने 2815 किमी सड़क को एनएच बनाने की मांग केन्द्र सरकार से की थी। इसके लिए केन्द्र के पास भेजे गये प्रस्ताव में दक्षिण और उत्तर बिहार की कई प्रमुख सड़कें शामिल थीं। केन्द्र ने उत्तर बिहार की अधिसंख्य सड़कों को तो एनएच बनाने की मंजूरी दे दी, लेकिन सूची में दक्षिण बिहार की मात्र तीन सड़कें ही शामिल हैं।

यह भी पढ़ें  उत्तर बिहार के 5 जिलों में लगेंगे 26 लाख स्मार्ट प्रीपेड मीटर, देखें कौन से जिले हैं शामिल

इसके पहले केन्द्र सरकार ने 35 सड़कों को एनएच में तब्दील करने की स्वीकृति दी थी। उस समय राष्ट्रीय उच्च पथ घोषित सड़कों की लंबाई 2126.80 किमी थी।  
केन्द्र सरकार ने नई सड़कों को एनएच की सूची में डाल तो दिया है लेकिन अभी यह तय नहीं हुआ है कि नई सड़कों का डीपीआर कौन बनाएगा। पहले की सड़कों का डीपीआर बनाने का निर्देश राज्य सरकार को दिया गया था। लेकिन सूची में शामिल बड़े पुलों का डीपीआर बनाने की जिम्मेवारी केन्द्र ने अपने पास ही रखी थी। राज्य सरकार में इसको ले असमंजस की स्थिति है। बिना डीपीआर स्वीकृति मिले सड़कों को अंतिम रूप से एनएच नहीं माना जा सकता है। अभी केन्द्र ने सिर्फ सैद्धांतिक स्वीकृति दी है। 
एनएच बनने वाली प्रमुख सड़कें
– बिहटा- सरमेरा
– उदाकिशनगंज-वीरपुर
– मधुबनी–फुलपरास वाया खुटौना
-बेनीबाद – परसौनी वाया बेलसंड
-तुर्की-मोतीपुर वाया सरैया 
-मांझी – बरौली वाया महराजगंज  
– मांझी- सरफारा वाया सीवान    
– मोतिहारी- शिवहर रोड वाया बेलवाघाट
– दरौली – कुचायकोट वाया मैरवा 
– मीरगंज- यूपी बॉर्डर वाया समौर रोड
-कल्याणपुर- देवरिया वाया मुजफ्फरपुर
– गनपतगंज- छातापुर वाया फारबिसगंज
-भुट्टा चौक-मधेपुर (मधुबनी जिला)
– बीरपुर- बलुआ वाया बथनाहा
– हिसुआ -लखीसराय वाया रामगढ़
– गया -पाली वाया गोरारू और टेकारी
– गया -रजौली वाया सिरदला
– बारूण -दउदनगर

यह भी पढ़ें  रेलवे ने दरभंगा और गोमती एक्‍सप्रेस ट्रेनों को किया कैंस‍िल, पुरी एक्‍सप्रेस के रनिंग स्‍टेट्स में क‍िए बड़े बदलाव, जानें सबकुछ

राज्य में एनएच की लंबाई 
1300 किमी लंबाई बढ़ी इस बार 
4594 किमी एनएच था पहले
2126 किमी लंबाई बढ़ी गत वर्ष