हवलदार के जुड़वे बेटे ने किया कमाल, एक साथ बने अफसर, एक बना SDM तो दूसरा तहसीलदार

आज हम UP के एक पुलिस हवलदार के दो अनमोल रतन यानी उनके दो जुड़वा बेटों की सक्सेस स्टोरी बताने जा रहे हैं, जिन्होंने UP PCS परीक्षा 2019 में सफलता प्राप्त करके इतिहास रचा है। हवलदार अशोक कुमार यादव मथुरा की थाना कोतवाली में डयूटी देते हैं, उनके बेटों में से एक बेटा SDM बना और दूसरा बेटा बना नायब तहसीलदार (Nayab Tahsildar) ।

दोनों बेटों के बड़े अफसर बन जाने से उनके परिवारवाले बहुत प्रसन्न हैं। दो-दो बेटों के एक साथ कामयाबी हासिल करने से मानो हवलदार पिता को जुड़वा ‘मेडल’ मिल गया हो। कॉन्स्टेबल कहते हैं कि उनके लिए यह बहुत अधिक प्रसन्नता की बात है कि उनके बेटे उनसे भी बड़े अफसर बन गए हैं। एक पिता के लिए बच्चों की सफलता से ज़्यादा बड़ी कोई भी ख़ुशी नहीं होती है।

यह भी पढ़ें  सोन नदी पर बहुत जल्द बनकर तैयार होगी एक और पुल 100 किलोमीटर का दुरी हो जायेगी मात्र 20 किलोमीटर

17 फरवरी के दिन उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की पीसीएस-19 का नतीजा आया था। जिसमें मथुरा पुलिस के एक हवलदार के जुड़वा बेटे पास होकर अफसर बन गए हैं। उनके एक बेटे का नाम रोहित (Rohit Yadav) है और दूसरे का मोहित यादव (Mohit Yadav) है। UP PCS एग्जाम में इन दोनों का ही सलेक्शन हो गया। जिनमें से एक बेटा डिप्टी कलेक्टर बना और दूसरा बेटा नायब तहसीलदार की पोस्ट के लिए सलेक्ट हुआ।

मोहित और रोहित का जन्म 20 अप्रेल 1996 को हुआ था। उनकी आयु में 5 मिनट का अंतर है। ये दोनों भाई जुड़वा होने की वज़ह से एक साथ पले-बढ़े और साथ ही शिक्षित भी हुए। ये दोनों छोटी उम्र से ही पढ़ाई में बहुत होशियार थे। आपको बता दें कि इन दोनों भाइयों की ज्यादातर आदतें एक जैसी हैं और अब इन्होंने एक साथ ही यह गवर्नमेंट जॉब पाकर सबको हैरान कर दिया है।

यह भी पढ़ें  प्रेरणा : पुलिस ऑफिसर बनकर अपने स्कूल पहुंचा शख्स, शिक्षक के छुए पैर तो खुशी से दिया 1100 रुपये, देखे विडियो

कॉन्सेटबल अशोक यादव की सारी फैमिली आगरा ट्रांस यमुना कॉलोनी में रहती है। उनके ये जुड़वा बच्चे छोटी आयु से ही होशियार रहे हैं और फिरोजाबाद जिले में ऐसा पहली बार हुआ है कि जुड़वा बच्चों ने साथ-साथ सरकारी नौकरी प्राप्त की है। वे दोनों अब आईएएस बनकर सिविल सेवा में जाना चाहते हैं।

उनके पिताजी बताते हैं कि उत्तराखंड पहले अलग राज्य नहीं था और उत्तर प्रदेश का ही एक भाग हुआ करता था। तब हवलदार अशोक कुमार देहरादून में काम करते थे। उस समय रोहित और मोहित बहुत छोटे थे। उन दोनों की शुरुआती शिक्षा देहरादून के ही एक विद्यालय से हुई थी। फिर इन्होंने बीटेक (B.Tech) किया। इन दोनों भाइयों की माँ कमलेश यादव भी ग्रेजुएट हैं।

यह भी पढ़ें  बिहार में मुंग की खेती कर लाखों रूपये कमा रहे है बिहार के किसान, इस जिला में हो रही बेहतर उपज