माँ ने जमीन बेच कर बेटे को पढाया, बेटे ने माँ का सपना किया साकार, अमेज़न में लगी 45 लाख की नौकरी,

कब किसकी किस्मत बदल जाए यह कोई नहीं जानता. कुछ पाने के लिए हौसले के साथ मेहनत की जरूरत होती है. ऐसे ही कुछ कर दिखाया है IIT लखनऊ के बीटेक छात्र नमन गुप्ता ने. जिनका कॉलेज कैंपस के प्लेसमेंट में 45 लाख के सलाना पैकेज प्राप्त हुआ है. नमन गुप्ता के पिता नहीं है. वो बचपन में ही चल बसे.

IITian नमन गुप्ता जब 8वी.कक्षा में पढ़ रहे थे, तब उनके पिता का निधन हो गया था. जिससे नमन गुप्ता की घर की आथिक स्थिती खराब हो गई . पिता का साया सर से उठ जाने के बाद बच्चे पर क्या बीतती है ये तो वो बच्चा और परिवार ही जनता है. हम इस बात की कल्पना भी नहीं कर सकते. लेकिन नमन की मां ने हार नहीं मानी.

नमन गुप्ता को कुछ पुस्तैनी जमीन भी है. नमन की माँ ने जमीन बेचकर अपने बच्चों को पढ़ाई और घर की स्थिती खराब को ठीक किया. साथ ही नमन पढने लिखने में काफी तेज थे. जिसके कारण नमन बिना कोचिंग के ट्रीपल आइटी में प्रवेश मिल गया. आज नमन अपने फैमिली को घर गिफ्ट करना चाहते है. क्योंकि उनका फैमिली चाचा के घर पर रहते थे. नमन जरूरतमंद बच्चों के लिए कुछ करना चाहते है.

इससे पहले जनवरी में बिहार के पटना शहर के रहने वाले संप्रीत यादव को गूगल ने 1.10 करोड़ रुपए दिए गए थे. जबकि पिछले साल जुलाई में सोनीपत के एक किसान बेटे अवनीश छिकारा को अमेजन ने 67 लाख रुपये दिए. और इस बार बहु राष्ट्रीय शौपिंग cart अमेज़न में नमन गुप्ता को 45 लाख के सालाना पैकेज का ऑफर दिया है.