दिल को छू लेगी कश्मीर की पहली आईपीएस ऑफिसर डॉ. रुवेदा सलाम की कहानी, कमाल कर दिया

कौन कहता है कामयाबी किस्मत तय करती है. इरादो में दम हो तो मंजिलें भी झुका करती हैं. ठीक ऐसी ही एक उदाहरण कश्मीर की पहली महिला आईपीएस(I.P.S.) ऑफिसर डॉक्टर रुवेदा सलाम ने पेश की है. आईपीएस ऑफिसर डॉ. रुवेदा सलाम (IPS Ruveda Salam) भारत के कश्मीर की पहली महिला आईपीएस ऑफिसर बनी है.

रुवेदा सलाम कश्मीर के कुपवाड़ा में रहने वाली लड़की थी. रुवेदा बचपन से ही पढ़ने में बहुत तेज थी. बता दें की रुवेदा सलाम के पिता उसे आईपीएस ऑफिसर बनाना चाहते थे. रुवेदा सलाम ने पिता के सपने को पूरा करने के लिए मेहनत और लगन से पढ़ाई करने लगी. लेकिन अपने पिता का सपना पूरा करना इतना भी आसान बात नहीं था. डॉ. रुवेदा कश्मीर में आतंक के खौफ में रहती थी. जिसे पढ़ाई में बहुत मुश्किल होती थी.

लेकिन हर मुश्किल की सामना डट कर किया. वो श्रीनगर के मेडिकल कॉलेज में MBBS की डिग्री ली. उसके बाद रुवेदा ने सिविल सर्जन की तैयारी करने लगी. रुवेदा ने 2013 में U.P.S.C क्लियर करके अपना नाम इतिहास में दर्ज करा दिया. रुवेदा कश्मीर की पहली महिला I.P.S अधिकारी बन गई. रुवेदा ने बहुत मुश्किल कि सामना किया. कश्मीर में आतंकी हमले के कारण कई दिनों तक स्कूल बंद हो जाते थे . जिससे पढ़ाई पर बहुत असर होते था. रुवेदा सारे लड़कियों के लिए प्रेरणा बन गई है.