apanabihar.com 701fs

पटना के अंदरूनी हिस्से में CNG ( सीएनजी ) स्टेशनों की संख्या बढ़ाने के लिए एक मदर स्टेशन बनाया जा रहा है. सीएनजी का मदर स्टेशन बनाने के लिए पुरे शहर को दो हिस्से में डिवाइड किया गया है. पूर्वी हिस्से का मदर स्टेशन गर्दनीबाग में बनेगा. गेल इंडिया पुरे शहर में CNG स्टेशन का जाल बिछा रही है. बिहार प्रभारी अजय कुमार सिन्हा ने बताया की पटना बाइपास के बाद गर्दनीबाग मदर स्टेशन बनेगा. जहाँ से पूर्वी हिस्से के सभी अंदरूनी पंप को रेगुलेट किया जयेगा.

आगे अजय कुमार सिन्हा ने बताया की CNG स्टेशन के लिए जमीन भी देख ली गई है. वह बीएसएनएल के जमीन पर बनेगा . बीएसएनएल से जमीन लेने के प्रकिया चल रही है . जैसे ही मदर स्टेशन के लिए गेल इंडिया को जमीन मिल जाएगी वैसे ही स्टेशन बनाने का काम शुरू कर दिया जायेगा. गर्दनीबाग मदर स्टेशन बनने के बाद यह पटना का सबसे बड़ा सीएनजी स्टेशन होगा.

एक मदर स्टेशन बनने से शहर के करीबी हिस्से में गैस की आपूर्ति की जा सकेगी. सभी CNG स्टेशन पर पूरा प्रेशर बना कर रखा जायेगा. पाइप लाइन के द्वारा गैस मदर स्टेशन से छोटे-छोटे स्टेशनों पर गैस भेजा जायेगा. यह सुरक्षा दृष्टिकोण से भी जरुरी है. गैस का लेखा-जोखा सब मदर स्टेशन से नियंत्रित किया जायेगा.

डाकबंगला चौराहा के पास CNG नोजल लगाने का काम भी चल रहा है. फ़िलहाल पटना शहर में कुल 19 CNG स्टेशन है. 4 सीएनजी स्टेशन हैं बेलीरोड पर बना हुआ है. 02 सीएनजी पंप कंकड़बाग में बना हुआ है और एक दीदारगंज में बना हुआ है. राज्य के अन्य हिस्से में cng स्टेशन खोले जा रहे है. फ़िलहाल समस्तीपुर (ताजपुर, बिरसिंगपुर), मसौढ़ी, बिहटा, बख्तियारपुर, नौबतपुर, दीदारगंज में cng गैस के आपूर्ति की जाती है.