apanabihar.com5 4

Sahara India Investor’s Refund Status 2022 : अपने खर्चों और वित्तीय जरूरतों को सही से चलाने के लिए बचत करना बेहद जरूरी होता है। बचत करने से भविष्य में आकष्मिक जरूरतों को पूरी करने में काफी आसानी होती है. लेकिन इन अभी चीजो के बीच सहारा इंड‍िया (Sahara India) में लाखों लोगों के पैसे फंसे हुए हैं. सरकार की सख्ती के बाद आपकी रकम की आस लगाए निवेशक लगातार अपने नजदीकी कार्यालय और जिला प्रशासन के कार्यालय पहुंचकर पैसा वापस दिलाने की मांग कर रहे हैं. हालांकि अब तक उन्हें रकम वापस नहीं मिली है. इसी बीच सहारा की ओर से एक लेटर जारी किया गया है, जिसमें कंपनी ने बड़ी जानकारी दी है |

Also read: Railway News: Layout of more than 40 stations including Faridabad, Muzaffarnagar, Gurugram will change, know…

सहारा ने जारी किया पत्र!

खास बात यह है की सहारा की तरफ से व‍िभ‍िन्‍न समाचार पत्रों में पत्र जारी कर कहा है कि वह (सहारा) भी सेबी से पीड़ित है. सहारा ने कहा हमसे दौड़ने के ल‍िए तो कहा जाता है लेक‍िन हमें बेड़ियों में जकड़ कर रखा गया है. इतना ही नहीं, इस चिट्ठी के माध्यम से सहारा ने बताया क‍ि न‍िवेशकों का पैसा अब सेबी का पास है. दरअसल, प‍िछले द‍िनों सहारा (Sahara) ने सेबी (SEBI) पर निवेशकों के 25,000 करोड़ रुपए रखने का आरोप लगाया है. हालांकि पहले भी सहारा की तरफ से यह जानकारी न‍िवेशकों को दी जा चुकी है |

Also read: Good news for those going from UP-Bihar to Delhi, know the train timings

सरकार ने दी जानकारी 

बताते चले की सरकार भी सहारा के न‍िवेशकों का पैसा वापस द‍िलाने के ल‍िए प्रयासरत है. इसके पहले वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी (Pankaj Choudhary) ने सदन में बताया था क‍ि सेबी (SEBI) को महज 81.70 करोड़ रुपये के लिए 53,642 ओरिजिनल बॉन्ड सर्टिफिकेट / पास बुक से जुड़े 19,644 आवेदन म‍िले हैं. सरकार ने जानकारी दी थी क‍ि शेष आवेदनों का SIRECL और SHICL की तरफ से दिए गए दस्तावेजों में रिकॉर्ड का पता नहीं चल पा रहा है |

Also read: Good news for the people of Bihar, special train for Katra-Ayodhya will run from this district

Also read: Bihar’s first metro train will run very soon, many pictures of the tunnel are here

Raushan Kumar is known for his fearless and bold journalism. Along with this, Raushan Kumar is also the Editor in Chief of apanabihar.com. Who has been contributing in the field of journalism for almost 4 years.