अंतरिक्ष में वैज्ञानिकों को मिली शराब, लेकिन इस ‘ठेके’ से नहीं ला सकते बोतल

अंतरिक्ष में आए दिन कुछ न कुछ मिलते रहता है लेकिन क्या आपको पता है कि अंतरिक्ष में अल्कोहल भी है। ये अल्कोहल किसी एस्ट्रोनॉट ने अंतरिक्ष में नहीं फेंकी है, बल्कि ये सूक्ष्म आणविक रूप में हैं। शोधकर्ताओं का अब मानना है कि उन्होंने अंतरिक्ष में प्रोपेनॉल के रूप में अब तक के सबसे बड़े अल्कोहल अणु की खोज की है। प्रोपेनॉल अणु दो रूपों में पाया जाता है। पहला है सामान्य प्रोपेनॉल जिसे पहली बार उस क्षेत्र में पाया गया है जहां सितारे बन रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट की माने तो दूसरा है आइसो प्रोपेनॉल जो हैंड सैनेटाइजर बनाने में इस्तेमाल होता है। इन्हें अभी तक आकाश गंगा के बाहर अंतरिक्ष में नहीं देखा गया था। ये खोज उल्कापिंड और धूमकेतु जैसे खगोलीय पिंडों के निर्माण का रहस्य जानने में सहायक हो सकती है। यूनिवर्सिटी ऑफ वर्जीनिया के एस्ट्रोकेमिस्ट रॉब गैरोड ने कहा, ‘प्रोपेनोल के दोनों रूपों का मिलना प्रत्येक के गठन को निर्धारित करने में विशिष्ट रूप से शक्तिशाली है। ऐसा इसलिए क्योंकि दोनों में बहुत समानता है, जिसका अर्थ है कि दो अणु एक ही समय में एक ही स्थान पर मौजूद होने चाहिए।’

यह भी पढ़ें  बिहार की बेटी को Google ने दिया करोड़ों के पैकेज का ऑफर, ऐसे हासिल किया यह मुकाम

कहां मिले अल्कोहल के अणु

जानकारों की माने तो सितारों के पैदा होने वाले क्षेत्र सैगिटेरियस B2 क्षेत्र में अल्कोहल अणु मिले हैं। ये क्षेत्र हमारी मिल्की वे आकाशगंगा के केंद्र के करीब है। सैगिटेरियस B2 सैगिटेरियस ए के करीब है जो हमारी आकाश गंगा का एक बड़ा ब्लैकहोल है। आपको बता दे की अंतरिक्ष में इस तरह का आणविक विश्लेषण पिछले 15 वर्षों से चल रहा है। 10 साल पहले चिली में अटाकामा लार्ज मिलिमीटर/सबमिलिमीटर एरे (ALMA) टेलीस्कोप तैनात किया गया, जिससे ये खोज तेज हो गई है।