गुजरात की सबसे बड़ी ताकत क्या रही जिसके दम पर जीत लिया पहली बार में ही टाइटल, कप्तान हार्दिक ने खोला राज

बीते रविवार यानी की 29 मई को ipl का फ़ाइनल मैच था जिसमे गुजरात ने राजस्थान को 7 विकेट से हराया. खास बात यह है की इसको लेकर हार्दिक पांड्या ने वो करिश्मा कर दिखाया जिसकी उम्मीद शायद ही किसी ने की थी। बाहर से साधारण दिखने वाली टीम का असाधारण प्रदर्शन साफ जाहिर करता है कि इस टीम ने कितनी बेहतरीन रणनीति के साथ एक-एक करके अपनी विरोधी टीमों को हराते हुए चुपके से चैंपियन भी बन गई। गुजरात की टीम ने डेब्यू सीजन में जो कमाल कर दिखाया वो अपने-आप में बेमिसाल रहा और इसका पूरा क्रेडिट कप्तान, टीम मैनेजमेंट, कोच सबको जाता है।

यह भी पढ़ें  IND vs SA: टी-20 सीरीज के लिए टीम का ऐलान, अफ्रीका के ये धुरंधर लेंगे भारत से पंगा

हार्दिक ने बताया, हमने गेंदबाजी पर दिया सबसे ज्यादा ध्यान

आपको बता दे की आइपीएल 2022 के फाइनल मैच में राजस्थान को 7 विकेट से हराने के बाद गुजरात के कप्तान हार्दिक पांड्या ने अपनी सफलता का राज खोला। उन्होंने कहा कि ये दुनिया की किसी भी टीम के लिए सही उदाहरण है। अगर आप एक टीम के रूप में खेल सकते हैं और सही लोगों के साथ एक बेहतरीन यूनिट का निर्माण कर सकते हैं तो चमत्कार हो सकता है। मैं और आशु पा (आशीष नेहरा) मैच में प्रोपर गेंदबाज के साथ खेलना पसंद करते हैं। टी20 क्रिकेट में बल्लेबाजों का महत्व है और ये बल्लेबाजों का खेल है, लेकिन क्रिकेट के इस प्रारूप में मैंने ज्यादा बार देखा है कि गेंदबाज आपको लिए मैच जीतते हैं।

यह भी पढ़ें  बिहार का एक ड्राइवर रातोंरात बना करोड़पति, 59 रुपए लगाकर जीते ₹2 करोड़

खास बात यह है की पांड्या ने कहा कि हमने कई बार मैच जीते, लेकिन हमने इस बात पर चर्चा की कि हम कहां पर चूक गए और फिर उसे कैसे बेहतर कर सकते हैं। मैंने आइपीएल में 5 फाइनल खेले (चार मुंबई इंडियंस के लिए) और सभी में जीत मिली मैं खुद को भाग्यशाली समझता हूं, लेकिन ये स्पेशल है।