क्या है एसबीआई स्टूडेंट लोन? जानिए ब्याज दर, प्रोसेसिंग फीस और अन्य महत्वपूर्ण जानकारी

जो छात्र या जिन छात्रों के परिवार उनकी उच्च शिक्षा का खर्च नहीं उठा सकते, उनके लिए एजुकेशन लोन बहुत काम आता है। छात्रों को उनकी उच्च शिक्षा के लिए बैंक लोन देते हैं। बता दे की एसबीआई स्टूडेंट एक टर्म लोन है। जो भारतीय नागरिकों को देश और विदेश में हायर एजुकेशन हासिल करने के लिए दिया जाता है। आइए जानते हैं एसबीआई के स्टूडेंट लोन के बारे में विस्तार से।

भारत में पढ़ाई के लिए- आपको बता दे की यूजीसी/आईएमसी/सरकार द्वारा अनुमोदिक कॉलेजों/यूनिवर्सिटी द्वारा संचालित नियमित तकनीकी और प्रोफेशनल डिग्री/डिप्लोमा पाठ्यक्रमों सहित स्नातक, स्नातकोत्तर आदि। इसके अलावा स्वायत्त संस्थानों जैसे आईआईटी, आईआईएम आदि संचालित नियमित डिग्री और डिप्लोमा पाठ्यक्रम शामिल है।
केंद्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा अनुमोदित शिक्षण प्रशिक्षण/नर्सिंग पाठ्यक्रम के लिए भी एसबीआई स्टूडेंट लोन दिया जाता है।
खास बात यह है की इनके अलावा नागर विमानन/नौवहन/संबंधित नियामक प्राधिकरण के महानिदेशक द्वारा अनुमोदित वैमानिकी, पायलट प्रशिक्षण, शिपिंग आदि जैसे नियमिग डिग्री/डिप्लोमा पाठ्यक्रम के लिए लोन उपलब्ध है।

विदेश में पढ़ाई के लिए-

  • प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों द्वारा पेश किए जाने वाले नौकरी उन्मुख पेशेवर/तकनीकी स्नातक डिग्री पाठ्यक्रम/स्नातकोत्तर डिग्री, एमसीए, एमबीए, एमएस आदि डिप्लोमा पाठ्यक्रम के लिए लोन दिया जाता है।
  • चार्टर्ड इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट अकाउंटेंट्स, लंदन में सर्टिफाइड पब्लिक अकाउंटेंट आदि द्वारा संचालित पाठ्यक्रम के लिए एसबीआई स्टूडेंट लोन दिया जाता है।

विशेषतायें और फायदें

  • कम ब्याज दर।
  • छात्राओं के लिए ब्याज में रियायत।
  • 7.5 लाख रुपए तक के लोन के लिए कोई कोलैटरल सिक्योरिटी नहीं लगती।
  • 20 लाख तक के लोन पर कोई प्रोसेसिंग फीस नहीं लगती।
  • पाठ्यक्रम पूरा होने के एक साल बाद रीपेमेंट शुरू होता है।
  • पढ़ाई पूरी होने के बाद 15 साल तक लोन चुकाने की सुविधा मिलती है।
  • 4 लाख तक के लो के लिए कोई मार्जित नहीं है।

लोन की रकम : छात्र भारत में पढ़ाई के लिए 50 लाख तक और विदेश में पढ़ाई के लिए 1.50 करोड़ तक के लोन का लाभ उठा सकते हैं।

ब्याज दर

  • प्रभावी ब्याज दर- 8.65%
  • छात्राओं के लिए ब्याज में 0.50% की छूट
  • प्रोसेसिंग फीस- 20 लाख तक के लोन पर शून्य
  • 20 लाख से अधिक के लोन पर 10 हजार रुपए +(टैक्स)।