सहारा इंडिया में आपका भी फंसा है पैसा, जाने कब मिलेगा पैसा, पढ़े सहारा इंडिया से जुड़े हर अपडेट

Sahara India Investor’s Refund Status 2022 : बिहार में अभी सिर्फ और सिर्फ एक ही चर्चा हो रही है. और वो है. खास बात यह है की लोग सोच रहें है की कब मिलेगा सहारा से निवेशकों का पैसा ? साथियों सहारा में बहुत लोगों ने अपनी भविष्य को बेहतर बनाने के लिए सहारा के अलग-अलग स्कीमों में अपना मेहनत की कमाई इन्वेस्ट किया कि उससे उसका भविष्य बेहतर हो जाए और उसे भविष्य में पैसा की जरूरी पड़े तो उसे सहारा पूरा करे |

आपको बता दे की सहारा कंपनी पर उसके ग्राहकों का आरोप है कि सहारा अपने ग्राहकों का पैसा मेचोरिटी पूरा होने के बाबजूद भी नहीं दे रही है | इसके लिए लोग सहारा कंपनी का जगह-जगह पर विरोध भी कर रहे है | इतना ही नहीं अब यह मामला अदालत के पास पंहुच गया है |

ग्राहकों की आवाज पंहुची सरकार तक : खास बात यह है की सहारा में निवेशकों के लिए सरकार ने अपनी तरफ से काम शुरू कर दी है. दरअसल सोमवार को सांसद में सहारा के अलग-अलग स्कीम में इन्वेस्ट किये पैसा लोगों को कब तक दिया जाएगा | वहीँ आपको बता दे कि सरकार ने सरकार ने संसद में बताया क‍ि सेबी (SEBI) सहारा के न‍िवेशकों को अब तक ब्‍याज समेत कुल 138.07 करोड़ रुपये ही वापस कर पाया है.

बताया जा रहा है की एक प्रश्‍न का जवाब देते हुए वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी (Pankaj Choudhary) ने सोमवार को बताया कि सहारा इंडिया रियल एस्टेट कॉर्पोरेशन लिमिटेड (SIRECL) ने 232.85 लाख निवेशकों से 19400.87 करोड़ रुपये और सहारा हाउसिंग इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड ने 75.14 लाख निवेशकों से 6380.50 करोड़ रुपये एकत्र‍ित किए है |

लोगों को कब मिलेगा पैसा? सबसे बड़ा सवाल है कि सहारा के निवेशकों को कब मिलेगा पैसा इस बात को लेकर सहारा इंडिया कम्पनी के और से कोई जानकरी नहीं दी गई है कि इस तिथि को सहारा अपने सभी ग्राहकों को लौटा देगी या इस तिथि के बाद से लौटाने की प्रक्रिया शुरू होगी | इसको लेकर सहारा ने अभी तक कोई ऐसा बयान नहीं दिया है | दरअसल सहारा इंडिया के निवेशकों को उनका पैसा कब वापस मिलेगा के सवाल के जवाब में वित्त मंत्रालय में राज्य मंत्री भागवत कराड ने कहा कि सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया ने सहारा इंडिया रियल एस्टेट कॉर्पोरेशन लिमिटेड और सहारा हाउसिंग इन्वेस्टमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड नाम की दो विशेष सहारा कंपनियों से संबंधित आदेश जारी किए हैं |