150 AIIMS, 350 बड़े स्टेडियम… Elon Musk ने जितने में twitter खरीदा, जानें उतने में क्या-क्या हो सकता था?

एलॉन मस्क यह नाम शायद ही कोई व्यक्ति होगा जो नही सुना होगा. जैसा की हम सब जानते है की अभी कुछ दिन पहले ही दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलॉन मस्क ने ट्विटर को खरीदा है. बता दे की 44 अरब डॉलर. भारतीय करंसी के हिसाब से 3 लाख 36 हजार करोड़ रुपये. इतनी बड़ी रकम में श्रीलंका कर्जमुक्त हो सकता था. भारत में 80 करोड़ गरीबों को दो साल तक मुफ्त में अनाज बांटा जा सकता था. एम्स जैसे 150 अस्पताल बनाए जा सकते थे. शिक्षा पर तीन गुना ज्यादा खर्च किया जा सकता था.

मीडिया रिपोर्ट की माने तो अब इतने ही 44 अरब डॉलर में दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलॉन मस्क ने ट्विटर को खरीदा है. दो साल पहले तक मस्क की नेटवर्थ इससे लगभग आधी थी. 2020 में उनकी नेटवर्थ 24 अरब डॉलर के आसपास थी और आज उनकी नेटवर्थ 245 अरब डॉलर पहुंच चुकी है. 44 अरब डॉलर यानी 3.36 लाख करोड़ रुपये, ये रकम कितनी बड़ी है, इसका अंदाजा लगाने के लिए कुछ चीजों पर नजर डालना जरूरी है.

यह भी पढ़ें  हर महीने 5 हजार रुपये कमाने का आसान तरीका, ये काम करने से मिलने लगेगी पेमेंट

बन सकते थे एम्स जैसे 150 से ज्यादा अस्पताल : आपको बता दे की देश में एक एम्स अस्पताल बनाने में औसतन 2 हजार करोड़ रुपये की लागत आती है. कश्मीर में 1828 करोड़ की लागत से एम्स बन रहा है. अगर 44 अरब डॉलर यानी 3.36 लाख करोड़ रुपये इस पर खर्च होते तो भारत में 150 से ज्यादा एम्स जैसे अस्पताल बन सकते थे.

दो साल तक फ्री राशन बांट सकती थी सरकार : खास बात यह है की मोदी सरकार 80 करोड़ गरीबों को मुफ्त राशन दे रही है. इसे प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना नाम दिया गया है. इसके तहत हर परिवार के हर व्यक्ति को हर महीने 5 किलो अनाज दिया जाता है. इस योजना पर तीन महीने में करीब 46 हजार करोड़ रुपये खर्च होते हैं. 44 अरब डॉलर में भारत में करीब 2 साल तक 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज मिल सकता था.

यह भी पढ़ें  दोगुने से भी ज्यादा बढ़ सकते हैं पेट्रोल के भाव, रूस ने कहा 300 डॉलर के पार पहुंचेगा क्रूड ऑयल

हर भारतीय के हिस्से आते ढाई-ढाई हजार रुपये : जानकारी के लिए बता दे की आधार बनाने वाली संस्था UIDAI के मुताबिक, 2021 तक देश की अनुमानित आबादी 136.09 करोड़ थी. अगर एलन मस्क ट्विटर से डील न करके वो रकम हर भारतीय को बराबर बांट देते तो हर एक के हिस्से में ढाई हजार रुपये आते.