apanabihar.com1 23

भारत में अभी महंगे डीजल की वजह से किसानों की फसल उत्पादन लागत बढ़ती जा रही है. खास बात यह है की उन किसानों को फसल उगाने के लिए ज्यादा खर्च करना पड़ता है जिन्हें सिंचाई की बेहतर व्यवस्था उपलब्ध नहीं है. उन्हें या तो बारिश के भरोसे रहना पड़ता है या फिर डीजल पंप के जरिए सिंचाई करनी पड़ती है. इससे उनकी लागत बढ़ती है और मुनाफे पर असर पड़ता है.

Also read: Bihar’s first metro train will run very soon, many pictures of the tunnel are here

आपको बता दे की ऐसे किसान अपनी लागत कम रखने के लिए केंद्र सरकार की योजनाओं का लाभ ले सकते हैं. इसके जरिए न सिर्फ मुफ्त में सिंचाई कर सकेंगे बल्कि सरकार की ओर से दी जा रही सब्सिडी का भी फायदा उठा सकेंगे. लागत कम रहने से कमाई भी ज्यादा होगी.

Also read: Railway News: Layout of more than 40 stations including Faridabad, Muzaffarnagar, Gurugram will change, know…

पीएम कुसुम योजना : मीडिया रिपोर्ट की माने तो किसानों की आर्थिक उन्नति के लिए केंद्र सरकार की ओर से कई योजनाएं चलाई जा रही हैं. इन्हीं में से एक है प्रधानमंत्री कुसुम योजना (PM Kusum Yojana). इसका लाभ उठाकर किसान भाई मुफ्त में फसलों की सिंचाई कर सकते हैं. इस योजना की शुरुआत मोदी सरकार ने वर्ष 2019 में की थी. इसके तहत किसानों को सोलर पंप लगाने के लिए सब्सिडी मुहैया कराई जाती है. यह योजना ऊर्जा मंत्रालय की है.

Also read: Good news for those going from UP-Bihar to Delhi, know the train timings

सोलर पंप के लिए 75 फीसदी सब्सिडी : बताया जा रहा है की इस योजना के तहत 75 फीसदी सब्सिडी दी जाती है. इसमें से 30 फीसदी केंद्र सरकार की ओर से और 45 फीसदी सब्सिडी राज्य सरकार की ओर से मुहैया कराई जाती है. सोलर पंप लगाने के लिए किसानों को सिर्फ 25 फीसदी राशि का भुगतान करना होता है. इन पंपों को लगाने पर बीमा कवर भी मिलता है. सोलर पंप से सिंचाई करने का खर्च कुछ भी नहीं आता है क्योंकि यह सौर ऊर्जा से चलता है.

Also read: Big Five Star Hotel In Bihar: The biggest company in Bihar is going to build many Taj hotels, know at which location it will be constructed!

Raushan Kumar is known for his fearless and bold journalism. Along with this, Raushan Kumar is also the Editor in Chief of apanabihar.com. Who has been contributing in the field of journalism for almost 4 years.