अच्छी खबर: ट्रैक पर 350 किलोमीटर प्रति घंटे से होगा बुलेट ट्रेन का टेस्ट, इतनी ही स्पीड से टेकऑफ करता है प्लेन

भारत के लोगो का वर्षो का सपना पूरा होने वाला है. बता दे की बुलेट ट्रेन का परीक्षण 350 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से किया जाएगा जो लगभग विमानों के उड़ान भरते समय की गति होती है. अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी. अधिकारियों ने कहा कि ऐसा पहला परीक्षण गुजरात में बिलिमोरा और सूरत के बीच 2026 में किया जाएगा और उसके बाद इसके अन्य खंडों में होगा.

आपको बता दे की ट्रेन के परिचालन की गति 320 किलोमीटर प्रति घंटे रहेगी. एक अधिकारी ने कहा कि यह परियोजना यात्रियों के लिए तथा हवाई यात्रा से प्रतिस्पर्धा के लिहाज से बड़ा बदलाव लाने वाली होगी. उन्होंने कहा कि बुलेट ट्रेन में चढ़ने में यात्रियों को कम समय (चैक-इन टाइम) लगेगा, अधिक जगह होगी और इन सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण कनेक्टिविटी होगी जो विमानों में सवार रहने के दौरान नहीं मिलती.

350 किलोमीटर की रफ्तार से करेंगे परीक्षण : बताते चले की अधिकारी ने कहा कि हम 350 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से परीक्षण करेंगे, लेकिन परिचालन गति 320 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी. वही उन्होंने बताया कि ये ट्रेनें ‘स्लैब ट्रैक प्रणाली’ वाली विशेष पटरियों पर दौड़ेगी जिसे पटरियों के निर्माण की एचएसआर तकनीक कहा जाता है और इसका पेटेंट जापानियों के पास है. अधिकारी ने कहा कि बुलेट ट्रेन इन पटरियों पर 350 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से दौड़ने के लिहाज से फिट रहेंगी.