दरभंगा के बाद अब गोपालगंज में भी जगी फ्लाइट सेवा की उम्मीद, जानें क्या है खबर

बिहार में गोपालगंज के हवाई अड्डे को चालू करने की कवायद तेज होती दिख रही है। बिहार की राजधानी पटना के लोकनायक जय प्रकाश नारायण एयरपोर्ट, गया के बोधगया एयरपोर्ट और दरभंगा एयरपोर्ट के बाद यह बिहार का चाैथा हवाई अड्डा जल्‍द ही आपरेशन होने की उम्‍मीद है। इसी के साथ बिहार के कई शहरों के बीच हेलीकाप्‍टर सर्विस भी शुरू किए जाने की उम्‍मीद है। गोपालगंज के सांसद और जेडीयू के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष डॉ आलोक कुमार सुमन (Gopalganj MP Alok Suman) ने मंगलवार को लोकसभा में सबेया एयरपोर्ट का मसला उठाया.

आपको बता दे की ‘डिमांड फोर ग्रांट’ के तहत सबेया एयरपोर्ट के बारे में अपनी बात रखते हुए सांसद ने कहा कि ‘सेकेंड वर्ल्ड वार’ में यह एयरपोर्ट काफी मददगार साबित हुआ था. सबेया एयरपोर्ट पर आज भी दो लंबा रनवे है, जिसकी मरम्मत करने की जरूरत है, ताकि कम खर्च में ही हवाई यात्रा शुरू हो सके. सांसद ने कहा कि सबेया एयरपोर्ट की जमीन का रक्षा मंत्रालय ने रिपोर्ट जारी किया है, जिसमें 1011 लोगों ने 338.66 एकड़ जमीन पर अतिक्रमण किया है. रक्षा मंत्रालय की मदद से बिहार सरकार के माध्यम से स्थानीय जिला प्रशासन को कागजात उपलब्ध कराते हुए सख्त आदेश दिया जाये, ताकि एयर लाइनें उड़ान भरने के लिए जल्दी तैयार हो सकें.

यह भी पढ़ें  अब घर बनाना होगा और भी आसान, सीमेंट की कीमतों में भी मिली राहत

खबरों की माने तो सांसद ने लोकसभा में रक्षा मंत्री से अतिक्रमण मुक्त कराकर सबेया एयरपोर्ट को चालू करने की मांग की, ताकि ‘उड़े देश का आम नागरिक’ का सपना गोपालगंज के लोगों का साकार हो सके. लोकसभा में सांसद ने कहा कि बिहार में विदेशी मुद्रा सबसे ज्यादा गोपालगंज और सीवान जिला में आता है क्योंकि गोपालगंज और सीमावर्ती जिला सीवान समेत आसपास के जिलों के लाखों लोग खाड़ी देशों में रहते हैं. साथ ही उन्होंने कहा की ये सभी लोग 150 से दो सौ किलोमीटर दूर जाकर दिल्ली के लिए प्लेन पकड़ते हैं, क्योंकि दिल्ली के लिए गोपालगंज से कोई सीधी ट्रेन भी नहीं है.

यह भी पढ़ें  सवाल: उस देश का नाम बताइए जहां रहते हैं केवल 27 लोग?