Post Office की शानदार स्कीम! 10 वर्ष से ऊपर बच्चों का खाता खोलें, हर महीने मिलेंगे 2475 रूपये, जानिए….

अपने खर्चों और वित्तीय जरूरतों को सही से चलाने के लिए बचत करना बेहद जरूरी होता है। बचत करने से भविष्य में आकष्मिक जरूरतों को पूरी करने में काफी आसानी होती है। अगर आप अपने बचत के पैसों को सही जगह पर इनवेस्ट करते हैं तो आप उस पर कमाई भी कर सकते हैं। जो जोखिम में लाभ चाहते है. अभी सभी लोग चाहते है की अगर मेरी इनकम 100 रुपया ही है तो उसमे से हम 50 रुपया ही खर्च करें और 50 रुपया को अपने भविष्य के लिए बचाकर रखें ताकि आने वाले दिनों में हमें तकलीफ न हो | पोस्ट ऑफिस (Post Office) अपने ग्राहकों के लिए लाभदायक स्कीम समय-समय पर ले कर आती रहती है।

यह भी पढ़ें  बैंक ऑफ बड़ौदा में बिना एग्जाम मैनेजर बनने का सुनहरा मौका, बस होना चाहिए ये योग्यता, लाखों में होगी सैलरी

आपको बता दे की डाकघर की एमआईएस (MIS) एक ऐसी बचत योजना है, जिसमें आप हर महीने एक बार निवेश करके ब्याज के रूप में इसका लाभ उठा सकेंगे। इस डाकघर बचत योजना (Post Office Saving Scheme) काफी फायदेमंद साबित हो रहा है। इस के तहत 10 वर्ष से ज्यादा आयु वर्ग के बच्चों का भी खाता खुलवा सकतें हैं। आईये जानते है इस योजना के बारे में पूरी डिटेल से…….

सबसे पहले जानते है इससे क्या मिलेगा फायदा : खास बात यह है की यह योजना लड़की के लिए है | और बता दे कि 10 साल के ऊपर की लड़की का अगर खाता खुलवा दे और 2 लाख तक जमा करने पर प्रत्येक महीने 6.6 फीसदी ब्याज के हिसाब से आपको 1100 मिलेगा। वहीं 5 साल में इसका ब्याज 66 हजार रुपये तक पहुँच जाएगा। इस प्रकार आपको हर महीने 1100 रुपये ब्याज में मिलेंगे इस राशि से आप अपने बच्चों के पढ़ाई में उपयोग कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें  Bank Holidays: मार्च में पूरे 13 दिन बंद रहेंगे बैंक, बीच में लगातार 4 दिन बैंकों में नहीं होंगे कामकाम, चेक करें लिस्ट

आगे चलकर आपको हमर महीने मिलेगा 1925 रूपये का लाभ : बताया जा रहा है की इस खाता को अगर माता-पिता चाहे तो अपने बच्चे के साथ-साथ अपना नाम भी जुड़वाँ सकते है सीधा-सीधा समझिये ये जॉइंट भी खुलता है मतलब बच्चे का अकेले भी खुल सकता है | और माता-पिता के साथ भी खुल सकता है | यदि आप इस योजना के तहत 3.50 लाख रुपये जमा करेंगे तो वर्तमान दर के हिसाब से प्रत्येक महीने 1925 रुपये आपको प्राप्त होगा। विद्यार्थियों के लिए यह रकम खाफी मदद कगार साबित होगी।