दोगुने से भी ज्यादा बढ़ सकते हैं पेट्रोल के भाव, रूस ने कहा 300 डॉलर के पार पहुंचेगा क्रूड ऑयल

देश में तेल के बढ़े दामो से लोग काफी परेसान है. रूस-यूक्रेन युद्ध (Russia Ukraine War) के कारण वैश्विक बाजार (International Market) में कच्चे तेल (Crude Oil) की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. खबरों की माने तो रूस ने चेतावनी दी है कि क्रूड ऑयल कि कीमतें 300 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच सकती हैं। रूस के एक वरिष्ठ मंत्री ने सोमवार को कहा कि पश्चिमी देशों को तेल की कीमतों में 300 डॉलर प्रति बैरल से अधिक का सामना करना पड़ सकता है और रूस-जर्मनी गैस पाइपलाइन के बंद होने का भी सामना करना पड़ सकता है। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि वाशिंगटन और यूरोपीय सहयोगी रूसी तेल आयात पर प्रतिबंध लगाने पर विचार करने के बयां के बाद सोमवार को तेल की कीमतें 2008 के बाद से अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गईं। यह क्रूड ऑयल का 14 सालों का सबसे ऊँचा स्तर है।

यह भी पढ़ें  महंगाई का एक और झटका: पेट्रोल-डीजल के दाम में चार महीने बाद की गई बढ़ोतरी, चेक करें नया रेट

रूसी तेल की अस्वीकृति वैश्विक बाजार के घातक : आपको बता दे की रूसी उप प्रधान मंत्री अलेक्जेंडर नोवाक ने राज्य टेलीविजन पर एक बयान में कहा, “यह बिल्कुल स्पष्ट है कि रूसी तेल की अस्वीकृति से वैश्विक बाजार के लिए विनाशकारी परिणाम होंगे। कीमतों में अप्रत्याशित उछाल होगा। जयदा नहीं तो यह 300 डॉलर प्रति बैरल होगा।” नोवाक ने कहा कि रूस से प्राप्त होने वाले तेल की मात्रा को बदलने के लिए यूरोप को एक वर्ष से अधिक समय लगेगा और उसे काफी अधिक कीमत चुकानी होगी। उनके मुताबिक, यूरोपीय राजनेताओं को अपने नागरिकों और उपभोक्ताओं को ईमानदारी से चेतावनी देने की जरूरत है कि क्या उम्मीद की जाए।

यह भी पढ़ें  Ukraine Russia War: 'वीर-जारा' का वीर प्रताप याद है न, उसी अंदाज में भारतीय लड़के ने PAK लड़की की बचाई जिंदगी

गैस पंपिंग पर प्रतिबंध लगाने का पूरा अधिकार : खास बात यह है की नोवाक ने बयां में कहा कि यदि आप रूस से एनर्जी आपूर्ति को अस्वीकार करना चाहते हैं, तो आगे बढ़ें। हम इसके लिए तैयार हैं। हम जानते हैं कि हम वॉल्यूम को कहां भेज सकते हैं। नोवाक ने कहा कि रूस, जो यूरोप की 40% गैस की आपूर्ति करता है, अपने दायित्वों को पूरी तरह से पूरा कर रहा है, लेकिन यह पूरी तरह से यूरोपीय यूनियन के खिलाफ जवाबी कार्रवाई करने के अपने अधिकारों के भीतर होगा क्योंकि जर्मनी ने पिछले महीने नॉर्ड स्ट्रीम 2 गैस पाइपलाइन के प्रमाणीकरण को रोक दिया था।

यह भी पढ़ें  मंडी भाव: सरसों तेल में तेजी, पामोलीन-सोयाबीन तेल के दाम गिरे