1 अप्रैल से पहले पोस्ट ऑफिस ग्राहक करा लें यह जरूरी काम! नहीं तो बाद में होगी बड़ी परेशानी

अपने खर्चों और वित्तीय जरूरतों को सही से चलाने के लिए बचत करना बेहद जरूरी होता है। बचत करने से भविष्य में आकष्मिक जरूरतों को पूरी करने में काफी आसानी होती है। अगर आप अपने बचत के पैसों को सही जगह पर इनवेस्ट करते हैं तो आप उस पर कमाई भी कर सकते हैं। वही अगर आपने पोस्ट ऑफिस की स्मॉल सेविंग स्कीम में निवेश किया है तो यह खबर आपके जरूरत की है. नियमों में बदलाव के कारण 1 अप्रैल 2022 से आपकी जेब पर बुरा असर पड़ने वाला है. पोस्ट ऑफिस के बदले हुए नियमों के मुताबिक अब ग्राहकों को टाइम डिपॉजिट अकाउंट, सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम और मंथली इनकम स्कीम (MIS) में निवेश करने के लिए आपको सेविंग अकाउंट या बैंक अकाउंट ओपन करना अनिवार्य कर दिया गया है.

यह भी पढ़ें  पोस्ट ऑफिस के IPPB ऐप पर खोलना चाहते हैं सेविंग अकाउंट, जाने यह आसान प्रोसेस

आपको बता दे की पोस्ट ऑफिस ने 1 अप्रैल 2022 से किसी भी तरह के स्मॉल सेविंग स्कीम जैसे सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम, मंथली इनकम स्कीम, टाइम डिपॉजिट अकाउंट आदि में निवेश करने के लिए अब एक बैंक खाता खोलने को जरूरी कर दिया है. अब इन स्मॉल सेविंग अकाउंट में जमा राशि पर मिलने वाली ब्याज आपको पोस्ट ऑफिस की सेविंग अकाउंट या बैंक अकाउंट में ही जमा किया जाएगा. आपको बता दें कि पोस्ट ऑफिस ने आपने सभी ग्राहकों से जिसके पास किसी तरह का सेविंग अकाउंट नहीं है उसे खोलने को कहा है.

पोस्ट ऑफिस या बैंक में सेविंग अकाउंट है जरूरी : खास बात यह है की पोस्ट ऑफिस ने कहा है कि ग्राहक जल्द से जल्द अपने पोस्ट ऑफिस या बैंक सेविंग अकाउंट को खुलवाकर उसे पोस्ट ऑफिस की सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम, MIS,टाइम डिपॉजिट अकाउंट आदि का ब्याज अब उस अकाउंट जमा किया जाएगा. अगर आपके पास पहले से बैंक में या पोस्ट ऑफिस में खाता है तो उसे पोस्ट ऑफिस की स्मॉल सेविंग अकाउंट से लिंक कराएं. सरकार के द्वारा जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक बिना सेविंग अकाउंट के आपको स्मॉल सेविंग अकाउंट में ब्याज नहीं मिलेगा. इसलिए 31 मार्च 2022 से पहले इस जरूरी काम को निपटा लें.

यह भी पढ़ें  13 फरवरी या इससे पहले खरीदी है LIC की पॉलिसी तो हो सकता है बड़ा फायदा

इस तरह SCSS/TD/MIS को करें सेविंग अकाउंट से लिंक : मीडिया रिपोर्ट की माने तो अगर आप पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट को SCSS/TD/MIS से लिंक करना चाहते हैं तो आप इसके लिए Automatic Transfer सर्विस  का लाभ उठा सकते हैं. इसके अलावा बैंक अकाउंट को लिंक करने के लिए आप बैंक पासबुक या कैंसिल चेक के जरिए आप पोस्ट ऑफिस में जाकर लिंक कर सकते हैं.