माधुरी दीक्षित को जब कहा जाने लगा था ‘ये हीरोइन मैटेरियल नहीं है’, सुनाते थे कई बातें

फ़िल्मी दुनिया में कितनी ही एक्ट्रेस हैं जिन्होंने अपनी ख़ूबसूरती के दम पर लोगों को अपना दीवाना बनाया हुआ है. उन्ही में से एक है. धक-धक गर्ल माधुरी दीक्षित ख़ूबसूरती ही नहीं, बल्कि टैलेंट की भी ख़ान हैं. उनके डांस के लोग कायल हैं. शुरुआती दौर में कई फ्लॉप फिल्मों के बाद जब उन्हें नकार दिया गया था तब उनकी झोली में गिरी थी ‘तेजाब’ (Tezaab). 11 नवंबर 1988 में रिलीज हुई इस फिल्म से मिली शोहरत के बाद माधुरी को पीछे मुड़कर नहीं देखना पड़ा. एन चंद्रा (N Chandra) के निर्देशन में बनी इस फिल्म में माधुरी के साथ अनिल कपूर (Anil Kapoor), चंकी पांडेय (Chunky Panday) ,किरन कुमार (Kiran Kapoor), अनुपम खेर (Anupam Kher) भी थे. माधूरी ने खुद इस बात का खुलासा किया था। आइये जानते हैं आगे की कहानी।

यह भी पढ़ें  Laal Singh Chaddha: फैंस को पसंद आया आमिर-करीना की फिल्म का ट्रेलर, बोले- 'इंतजार कब खत्म होगा'

जैसा की हम सब जानते है की एक फिल्म की सफलता किसी के बारे में किस तरह राय बदल देती है इसका खुलासा  खुद Madhuri Dixit ने अनुपम खेर के शो ‘द अनुपम खेर शो’ पर किया था. आपको बता दे की माधुरी ने बताया था कि ‘जब इंडस्ट्री में बतौर हीरोइन दो फिल्मों में काम किया लेकिन वो चली नहीं. बताया जा रहा है की इसके बाद तो ये कहा जाने लगा कि ये हीरोइन मैटेरियल नहीं है. बहुत पतली है. लोगों के कई तरह के निगेटिव कमेंट सुनकर मेरे अंदर निगेटिविटी आ गई थी. लेकिन जब तेजाब चल गई तो ये सब पॉजिटिव हो गया. लोगों की भाषा ही बदल गई. पतली की जगह स्लिम कहने लगे. लोग कहने लगे कि अरे ये तो बहुत अच्छा डांस करती है, इसने तो बहुत अच्छा काम किया’.

यह भी पढ़ें  Manoj Tiwari Bhagyashree Video: भाग्यश्री संग मनोज तिवारी ने लड़ाया इश्क, 8 साल पुराना गाना वायरल, VIDEO

बताया जा रहा है की बॉलीवुड अभिनेत्री माधुरी ने साल 1984 में फिल्म अबोध से अपने करियर की शुरुआत की थी। ये फ्लॉप रहीं थी। इसके अलावा आवारा बाप, स्वाति, हिफाजत, उत्तर दक्षिण आदि फिल्में भी फ्लॉप रहीं। माधुरी को 1988 में आई फिल्म ‘तेजाब’ से काफी लोकप्रियता मिली और वो स्टार बन गईं।